तूतीकोरिन में फिर भड़की हिंसा, गृह मंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट, रजनीकांत-हासन ने भी दिया संदेश

नई दिल्ली ( 23 मई ): तमिलनाडु के तूतीकोरिन में वेदांता स्टरलाइट कॉपर यूनिट के खिलाफ प्रदर्शन ने मंगलवार को हिंसक रूप ले लिया। स्टरलाइट कॉपर यूनिट के खिलाफ प्रदर्शन बुधवार को भी जारी है। अन्ना नगर इलाके में फिर हिंसा भड़क गई है, जिसमें तीन लोगों को गोलियां लगी हैं। इनमें से एक की मौत हो गई है। स्थानीय अस्पताल में प्रदर्शनकारी और पुलिसकर्मियों के बीच हुई झड़प के बाद पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े।

हालांकि, प्रशासन ने घटनास्थल पर धारा 144 लगा रखी है, जबकि पड़ोसी जिलों से 2000 से ज्यादा पुलिसकर्मी सुरक्षा के लिए भेजे गए हैं। बावजूद इसके बुधवार दोपहर फिर हिंसा भड़क उठी। तमिलनाडु सरकार ने तूतीकोरिन समेत 3 जिलों में इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी है।हिंसक प्रदर्शन में एक 22 साल के एक युवक की मौत हो गई। पूरे शहर में धारा 144 लगा दी गई है। गृह मंत्रालय ने भी तमिलनाडु सरकार से मंगलवार को हुई घटना पर रिपोर्ट तलब की है। प्रदर्शन अब राज्य के दूसरे हिस्सों में भी शुरू हो गया है और चेन्नई में लोगों ने वेदांता के खिलाफ विरोध मार्च निकाला।

अब इस विवाद में फिल्म स्टार रजनीकांत और अभिनेता से नेता बने कमल हासन भी कूद पड़े हैं। रजनीकांत ने विडियो मेसेज जारी कर लोगों से शांति की अपील की है। उधर, कमल हासन घायलों का हालचाल लेने अस्पताल पहुंचे। रजनीकांत ने वीडियो मैसेज जारी कर लोगों से शांति की अपील की है। उधर, कमल हासन घायलों का हालचाल लेने अस्पताल पहुंचे।

कमल हासन ने तूतीकोरिन जाकर घायलों से मुलाकात की। हालांकि उन्हें लोगों के भारी गुस्से और विरोध का सामना करना पड़ा। लोगों ने हासन से कहा कि आप तुरंत यहां से चले जाइए, आपकी वजह से हम लोगों को दिक्कत हो रही है। कमल हासन ने कहा, 'हमें यह पता चलना चाहिए कि किसने पुलिसवालों को गोली चलाने का आदेश दिया। यह इंडस्ट्री बंद होनी चाहिए। यहां के लोग भी यही मांग कर रहे हैं।'

आपको बता दें कि मंगलवार को प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस द्वारा की गई फायरिंग से 11 लोगों की मौत के बाद इलाके में तनाव बना हुआ है। पुलिस ने एक बार फिर प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले छोड़े हैं। हिंसक घटना के बाद यहां सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। धारा 144 लागू होने के बाद भी लोग प्रदर्शन कर रहे हैं।