Blog single photo

राज्यसभा: मार्शल के नए यूनिफॉर्म पर ऐतराज, वेंकैया नायडू ने आपत्तियों पर विचार का दिया आदेश

राज्यसभा में आज दूसरा दिन भी हंगामेदार रहा। राज्यसभा के 250वें सत्र के पहले दिन सहायता के लिए खड़े मार्शल के ड्रेस बदले नजर आए। उनकी वर्दी सेना से मिलती जुलती दिखीं।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (19 नवंबर):  राज्यसभा में आज दूसरा दिन भी हंगामेदार रहा। राज्यसभा के 250वें सत्र के पहले दिन सहायता के लिए खड़े मार्शल के ड्रेस बदले नजर आए। उनकी वर्दी सेना से मिलती जुलती दिखीं। इस सेना से मिलती परिधान के कारण कुछ जानी-मानी हस्तियों ने भी इस पर आपत्ति की थी। मंगलवार को राज्यसभा की कार्रवाई के दौरान चेयरमैन वेंकैया नायडू ने कहा कि सदस्यों की आपत्ति को देखते हुए इस पर फिर से विचार करने का आश्वासन दिया।

सभापत्ति एम. वेंकैया नायडू ने कहा,  'राज्यसभा सेक्रटेरियट ने कई तरह के सुझाव लेने के बाद मॉर्शलों की वर्दी बदली गई। कुछ सदस्यों और अन्य गणमान्य लोगों से भी मुझे इस वर्दी को लेकर कुछ आपत्तियों की सूचना मिली है। मैं बताना चाहता हूं कि सेक्रेटेरियट को मैंने एक बार फिर से नई वर्दी के फैसले से जुड़ी आपत्तियां साझा की हैं और विचार करने के लिए कहा है।'

पूर्व सेना प्रमुख जनरल वीपी मलिक ने ट्वीट किया, ‘‘मिलिट्री यूनिफॉर्म की नकल करना और किसी गैर-सैन्यकर्मी के द्वारा उसे पहनना अवैध है। यह सुरक्षा व्यवस्था को खतरा है। उम्मीद है कि उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और राज्यसभा सचिवालय जल्द कोई उचित फैसला लेंगे।’’ इसके अलावा केंद्रीय मंत्री और पूर्व सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह ने भी मार्शलों की ड्रेस को आर्मी जैसी करने को गलत करार दिया।

सोमवार को इन मार्शलों के सिर पर पगड़ी की बजाय नीले रंग की 'पी-कैप' थी। साथ ही उन्होंने नीले रंग की आधुनिक सुरक्षाकर्मियों वाली वर्दी धारण कर रखी थी। आपको बता दें कि सभापति सहित अन्य पीठासीन अधिकारियों की सहायता के लिये लगभग आधा दर्जन मार्शल तैनात होते हैं। एक अधिकारी ने बताया कि मार्शलों ने उनके ड्रेस कोड में बदलाव कर ऐसा परिधान शामिल करने की मांग की थी जो पहनने में सुगम और आधुनिक ‘लुक’ वाली हो। इनकी मांग पर को स्वीकार कर राज्य सचिवालय और सुरक्षा अधिकारियों ने नई ड्रेस को डिजायन करने के लिये कई दौर बैठकें कर नये परिधान को अंतिम रूप दिया। सूत्रों के अनुसार मार्शलों ने इस बदलाव पर खुशी जाहिर की है।

Tags :

NEXT STORY
Top