दिल्ली: लॉकर से पैसे मिलने के मामले में बड़ा खुलासा, RBI से मिली है परमिशन


Photo: Google



न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (3 दिसंबर): दिल्ली के खारी बावली लॉकर में इनकम टैक्स विभाग की टीम जो छापेमारी कर रही है, उसमें न्यूज 24 के हाथों एक बड़ा अहम सबूत लगा है। न्यूज 24 ने जिस बेसमेंट में लॉकर संचालित हो रहा है, उसके प्रॉपर्टी मालिक अशोक से बात की तो उसने बताया कि वह पिछले 27 साल से ये लॉकर चला रहे है। उसने बताया कि इसमें 300 लॉकर है और उसने इसके लिए RBI से परमिशन भी ली हुई है।


वहीं इस मामले में स्थानीय कारोबारियों का कहना है कि बिक्री के बाद ज्यादातर लोग अपना कैश इन्हीं प्राइवेट लॉकर (सरकार से मान्यता प्राप्त) में रखते थे। एक महीने पहले IT ने रेड कर 140 लॉकर सील किए थे। इस बीच नोटिस देकर पूछताछ करते रहे, लेकिन शनिवार शाम से लॉकर खुल रहे हैं। उनमें 300 से ज्यादा कारोबारियों के पैसे हैं, ज्यादातर हिसाब देने को तैयार हैं। जिसकी ब्लैकमनी हो, उसी पर कार्रवाई होनी चाहिए।



आपको बता दें कि खबर आई थी कि राजधानी दिल्ली के चांदनी चौक में आयकर विभाग ने करीब 300 प्राइवेट लॉकरों को जब्त किया है, जिसमें से अब तक 30 करोड़ रुपए बरामद किए जा चुके हैं। बताया जा रहा है कि कई लॉकर अब भी खुलना बाकी हैं और नोटों की गिनती भी जारी है। रविवार रात जब न्यूज़ 24 की टीम मौके पर पहुंची तब भी आयकर विभाग की टीम बेसमेंट में मौजूद थी। ये सभी प्राइवेट लॉकर राजहंस सोप मिल्स प्राइवेट लिमिटेड नाम की दुकान के बेसमेंट में बने हुए थे। बताया जा रहा है कि राजहंस सोप मिल्स नाम की इस छोटी सी दुकान में साबुन और ड्राइफ्रुट्स का काम होता है। न्यूज़ 24 की पड़ताल में अशोक गुप्ता नाम के एक शख्स का नाम सामने आया है। बिल्डिंग के गार्ड का दावा है कि अशोक गुप्ता ही बिल्डिंग का मालिक है और बेसमेंट में बने ये सभी लॉकर अशोक गुप्ता की देखरेख में ही संचालित किए जा रहे थे।



लॉकर ऑपरेशन से जुड़ी यह तीसरी बड़ी कार्रवाई है। सितंबर में दुबई से जुड़े 700 करोड़ के हवाला रैकेट में ईडी ने 29 लाख कैश और दस्तावेज बरामद किए थे। इससे पहले जनवरी 2018 में साउथ एक्स के एक प्राइवेट लॉकर से 40 करोड़ से ज्यादा की नगदी मिली थी।