साल के अंत तक भारत को मिल सकती है स्कॉर्पियन पनडुब्बी, खौफ में है पाकिस्तान

नई दिल्ली(6 मार्च): भारतीय नौसेना ने डाटा लीक प्रकरण को पीछे छोड़ते हुये फ्रांस द्वारा बनायी गयी स्कॉर्पियन पनडुब्बियों को अपने बेड़े में शामिल करने के लिए आखिरकार एक समयसीमा तय कर ली है और पहली दो पनडुब्बियों के इस वर्ष नौसेना में शामिल होने की संभावना है।

- फ्रांस की तकनीक के साथ इन पनडुब्बियों का करीब 3.5 बिलियन डॉलर की कीमत से मझगांव डॉक लिमिटेड में निर्माण किया जा रहा है।

-  योजना के अनुसार दूसरी पनडुब्बी खान्देरी को इस साल के अंत तक नौसेना के बेड़े में शामिल किया जाएगा और इसके बाद नौ महीने के अंतराल पर बाकी की पनडुब्बियों को शामिल किया जाएगा।

- गौरतलब है कि अगस्त में इन पनडुब्बियों की क्षमताओं पर 22 हजार से अधिक पृष्ठों की अत्यधिक गोपनीय सूचनाएं लीक हो गई थी और ऑस्ट्रेलिया के एक समाचार पत्र ने इनकी जानकारी को अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित किया था।

- उस समय नौसेना के सूत्रों ने कहा था कि दस्तावेज पुराने हैं और भारतीय पनडुब्बियों के डिजाइन में शुरुआती डिजाइन से लेकर अब तक ‘कई बदलाव’ किए गए हैं। ऐसे समय में जब चीन हिंद महासागर में अपनी नौवहन गतिविधियों को बढ़ा रहा है तो इन पनडुब्बियों के आने से भारत की नौसैन्य शक्ति के बढ़ने की उम्मीद है। ये सभी छह डीजल-इलेक्ट्रिक आक्रमण पनडुब्बियां जहाज रोधी मिसाइल से लैस है।