खेत नहीं थे तो बुजुर्ग ने छत पर उगा दी फसल, वैज्ञानिक भी हैरान

नई दिल्ली ( 27 नवंबर ): एक 73 वर्षीय किसान किसान भागीरथी बिसई ने अपने घर की छत पर ही धान की खेती की है। दरअसल बिसई के पास खेत नहीं हैं। उन्होंने लीज पर खेत लेने के बजाय खुद ये नया तरीका इजाद कर लिया। खेती में छत गिर न जाए, इसके लिए उन्होंने छत पर रेत और सीमेंट की ढलाई तो कराई, लेकिन लोहे की छड़ के साथ बांस की लकड़ी लगवाई।

उनका तर्क है कि बांस जल्दी नहीं सड़ता। बास के कारण सीलन की समस्या दूर हो गई। छत पर मिट्टी की छह इंच परत बिछाई गई है। वह परंपरागत किसान हैं। इस एक्सपेरिमेंट के लिए उन्होंने कोई ट्रेनिंग नहीं ली है।

बिसई ने 2004 में एफसीआई से रिटायर होने के बाद 100 वर्गफीट में धान बोया और प्रयोग सफल रहा। फिर उन्होंने घर को दो मंजिला किया। तीन हजार वर्गफीट की छत पर छह इंच मिट्‌टी की परत बिछाई। अब वे तीन हजार वर्गफुट की छत पर ही खेती कर रहे हैं। साल में दो क्विंटल धान दो अलग-अलग किस्मों के साथ लेते हैं। उनके इस जुनून को देखकर वैज्ञानिक भी हैरान हैं।

क्या-क्या उगाते हैं
- भागीरथ दुबराज धान व सब्जी की खेती करते हैं।
- गेंदा फूल के पौधे में टमाटर, बैगन के साथ दो किस्म की मिर्ची का उत्पादन करते हैं।
- अब कम लागत में धान की 14 इंच की बाली से अधिक उपज लेने में लगे हुए हैं। पौधे तैयार कर दूसरी जगह प्लांट करते हैं।