BSSC पेपर लीक मामला: खुलासा करोड़ों में हुआ था प्रश्न पत्र का डील

नई दिल्ली ( 9 फरवरी ): बीएसएससी परीक्षा पेपर लीक मामले में एसआईटी ने गुरुवार को एक बड़ा खुलासा किया। आयोग द्वारा चार परीक्षा ली जाने वाली थी जिनमें से दो परीक्षाएं हो चुकी थीं, जबकि दो होने वाली थीं। लेकिन चारो परीक्षा के पेपर पहले ही लीक हो चुके थे। एसआईटी ने आज उन लोगों को सामने लाई, जिन्होंने परीक्षा के पेपर लीक किया था।

इस मामले में 6 लोग को गिरफ्तार किया गया है जिनमे कोचिंग संचालक, स्कूल संचालक और बिहार लोक सेवा आयोग का एक पूर्व कर्मचारी भी है। यह कर्मचारी बीपीएससी के एक पूर्व अध्यछ का रिश्तेदार भी है। एक और खुलासा करते हुए एसआईटी ने बताया कि प्रति उम्मीदवार छ से सात लाख की राशि ली जाती थी और बदले में उम्मीदवार के सारे सर्टिफिकेट गिरोह के पास गिरवी रखे जाते थे ताकि रिजल्ट आने के बाद उम्मीदवार बिना रकम दिए भागे नहीं।

एसएसपी ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि रामेश्वर पटना के बेउर इलाके में रैंडम क्लासेज नाम का कोचिंग चलाता है। वह खुद एक बार मेट्रिक फेल और दो बार इंटर फेल विद्यार्थी रहा है। आरोप है कि पूरे मामले में रामेश्वर मुख्य भूमिका निभाता था। वह अपने रैंडम क्लासेस के माध्यम से छात्रों को टारगेट करता और उसके बाद रामाशीष सिंह और अन्य लोग मिलकर परीक्षा में सेटिंग करते। इस सेटिंग के लिए एक-एक छात्र से 5 से 6 लाख रूपये तक लिए जाते थे। रामेश्वर के पास से ऐसे दो सौ उम्मीदवारों के नाम नंबर और उनके सर्टिफिकेट मिले हैं।