गरीब दोस्त बन सकें डॉक्टर-इंजीनियर, स्कूली छात्रों ने बनाया गुल्लक बैंक

नई दिल्ली(18 जुलाई): आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, हरियाणा के रेवाड़ी का एक सरकारी स्कूल है। यहां करीब 1000 बच्चों ने पहल करके बाल गुल्लक बनाई है। ताकि 12वीं तक उनके किसी भी दोस्त की पढ़ाई पैसों की तंगी की वजह से न रुके।

ये बच्चे बर्थ-डे पर पार्टी करने की बजाय पैसे बचाकर गुल्लक में जमा करते हैं और स्कूल या फिर आस-पास के इलाके में दो पेड़ लगाकर जन्मदिन मनाते हैं। बायोलॉजी के लेक्चरर डाॅ. हरिप्रकाश गुल्लक का लेखाजोखा रखते हैं। वे बताते हैं कि हर साल गुल्लक में 20 हजार रु. जमा हो जाते हैं।

स्टूडेंट्स के माता-पिता और टीचर भी आर्थिक मदद करने लगे हैंं। इस रकम से स्कूल में ही आईआईटी, पीएमटी जैसी कॉम्पीटिटिव एग्जाम्स की तैयारी करवाई जाती है। गुल्लक की मदद से 2015 में दो बच्चों का आईआईटी और दो का पीएमटी में चयन हुआ। 2016 में 15 बच्चे पहली बार इन एग्जाम्स में शामिल हुए।