बिहार में 6000000000 रुपये का धान घोटाला

पटना(24 नवंबर): बिहार में धान घोटाला सामने आया है। ये घोटाला करीब छह सौ करोड़ का है। घोटाला भी बड़ा अजीब है। बरसात में धान खराब हो गया और फिर सरकार को बताया गया कि इन धानो से बंगाल के मिल में भेजने पर अच्छे चावल हो सकते है। करीब 1700 मीट्रिक टन धान को बंगाल भेजा गया लेकिन भेजा गया स्कूटर और बाइक से।

-यही नहीं जिन मिल का जिक्र किया गया था उनमे कई कागज पर ही है।

- धान घोटाला के सामने आने के बाद सियासी हड़कंप मच गया था। इस घोटाले को लेकर एक साल पहले विधानसभा में काफी हो हल्ला मचा था। तब पटना हाइकोर्ट ने मामले का संज्ञान लेते हुए इसकी जांच सीबीआई को सौंपने के आदेश दिए थे। लेकिन हाइकोर्ट के आदेश के बावजूद सीबीआई ने कुछ कारणों का हवाला देते हुए मामले की जांच करने से मना कर दिया। जिसके बाद हाईकोर्ट ने जांच विजिलेंस विभाग को सौंपी। विजिलेंस की जांच में पता लगा कि कुछ अधिकारियों ने मिलीभगत कर बिहार सरकार को करीब 600 करोड़ रुपये का चूना लगाया। ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि धान खरीद घोटाला चार हजार करोड़ से भी ज्यादा का हो सकता है।