3 तलाक पर सुनवाई को तैयार सुप्रीम कोर्ट, कहा, यह गंभीर मामला

नई दिल्ली (16 फरवरी): तीन तलाक के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई के लिए तैयार हो गया है। 5 जजों की संविधान पीठ अब पूरे मामले की सुनवाई करेगी।

सुप्रीम कोर्ट ने ट्रिपल तलाक मामले में सुनवाई के दौरान आज कहा कि यह एक बहुत ही गंभीर मुद्दा है और इसे सुने जाने की जरूरत है। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने संबंधित पार्टियों को अपना पक्ष लिखित में अटार्नी जनरल के पास 30 मार्च तक जमा कराने को कहा है। इससे पहले कोर्ट ने 14 फरवरी को हुई सुनवाई के दौरान कहा था कि गर्मियों की छुट्टियां शुरू होते ही पहले सप्ताह में 11 मई से इस मामले में नियमित सुनवाई की जाएगी। वहीं सभी पक्षकारों से कहा था कि वे पक्ष और विपक्ष दोनों ओर से बहस के लिए तीन तीन वकीलों या पक्षकारों का चयन कर लें।

कोर्ट ने साफ किया कि वे तीन तलाक से संबंधित कानूनी पहलू पर विचार करेगा। क्योंकि अगर कोर्ट ने व्यक्तिगत शिकायतों पर विचार करना शुरू किया तो मामले पर सुनवाई पूरी होना मुश्किल होगा।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने ट्रिपल तलाक, निकाह हलाल और कई शादियों जैसी प्रथाओं का विरोध किया था। लैंगिक समानता और महिलाओं के मान सम्मान के साथ समझौता नहीं हो सकता और भारत जैसे सेक्युलर देश में महिला को जो संविधान में अधिकार दिया गया है उससे वंचित नहीं किया जा सकता। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने केंद्र सरकार की दलीलों का विरोध किया था। उसने इसे मुस्लिमों के मामलों में दखल करार दिया था। इसके अलावा एक और मुस्लिम संगठन जमीयत उलेमा-ए- हिंद ने भी कोर्ट से कहा था कि मुस्लिम पर्सनल लॉ में दखल नहीं दिया जाना चाहिए।