हाईकोर्ट के गंगा-यमुना नदियों को 'जीवित इंसान' का दर्जा देने पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

नई दिल्ली (7 जुलाई): सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को उत्तराखंड हाईकोर्ट के गंगा-यमुना नदी के बारे में दिए बड़े फैसले पर रोक लगा दी है। बता दें कि उत्तराखंड हाईकोर्ट ने गंगा और यमुना को जीवित इंसानों का दर्जा देने का आदेश दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने इस आदेश के खिलाफ दायर याचिका की सुनवाई करते हुए फिलहाल रोक लगा दी है।


उत्तराखंड हाईकोर्ट ने 20 मार्च को अपने ऐतिहासिक फैसले में देश की दो पवित्र नदियों गंगा ओैर यमुना को 'जीवित' का दर्जा देने का आदेश दिया था। हाई कोर्ट के जस्टिस राजीव शर्मा और जस्टिस आलोक सिंह की बेंच ने अपने आदेश में दोनों नदियों गंगा और यमुना के साथ एक 'जीवित इंसान' की तरह व्यवहार किए जाने का आदेश दिया।


कोर्ट ने इस संबंध में न्यू जीलैंड की वानकुई नदी का भी उदाहरण दिया जिसे इस तरह का दर्जा दिया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने भाषणों में अक्सर गंगा और दूसरी नदियों की सफाई का जिक्र करते रहे हैं। इसके लिए उनकी केंद्र सरकार ने नमामि गंगे परियोजना भी शुरू की है। उत्तराखंड हाई कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला देते हुए गंगा के आसपास से अतिक्रमण हटाने का भी आदेश दिया था।