सौम्या बलात्कार कांड: SC ने खारिज की क्यूरेटिव याचिका

नई दिल्ली (28 अप्रैल): केरल के बहुचर्चित सौम्या बलात्कार और हत्याकांड में दायर की गई एक सुधारात्मक (क्यूरेटिव) याचिका को सुप्रीम कोर्ट की छह सदस्यीय पीठ ने ख़ारिज कर दिया। इससे पहले पुनर्विचार याचिका खारिज हो चुकी है।


त्रिशूर में 2011 में हुए कांड के दोषी गोविंदसामी से SC ने हत्या का आरोप हटा दिया था। सिर्फ बलात्कार का दोषी मानते हुए उम्रकैद की सज़ा दी थी। आपको बता दें कि गोविंदसामी के हमले से डर कर 23 साल की सौम्या चलती ट्रेन से गिर गई थी। उसने कूदकर घायल लड़की का बलात्कार किया। उसकी हस्पताल में मौत हो गई थी।


इसी मामले में सु्प्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मार्कंण्डेय काटजू के खिलाफ अवमानना नोटिस जारी किया गया था, क्योंकि उन्होंने अपने ब्लॉग में फैसले की आलोचना करते हुए सेवारत न्यायाधीशों के खिलाफ कुछ टिप्पणियां की थीं। बाद में उन्होंने न्यायालय से माफी मांगी थी, तब जाकर उनके खिलाफ अवमानना की कार्यवाही वापस ली गई।


प्रधान न्यायाधीश जे एस खेहर, न्यायमूर्ति रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति पी सी पंत, न्यायमूर्ति यू यू ललित, न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा और न्यायमूर्ति जे चेलमेश्वर की पीठ बंद कमरे में इस मामले पर विचार करेगी।