अगस्टा वेस्टलैंड मामला: SC ने सोनिया पर FIR का निर्देश देने से किया इनकार

नई दिल्ली (15 जुलाई): सुप्रीम कोर्ट ने अगस्टा वेस्टलैंड मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ FIR दर्ज करने के निर्देश देने से इनकार कर दिया है। एडवोकेट एम.एल शर्मा ने अपनी याचिका में मांग की थी कि सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में मामले की जांच हो। मई दाखिल की गई याचिका में यह भी मांग की गई थी कि यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सहित उन सभी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए जिनके नाम इटली की कोर्ट के फैसले में लिए गए हैं।

सीबीआई ने 2013 में अगस्ता वेस्टलैण्ड हेलिकॉप्टर डील में कथित घूस को लेकर केस दर्ज किया था। प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति सहित अन्य वीवीआईपी के लिए 12 हेलिकॉप्टरों की खरीद के लिए अगस्ता वेस्टलैण्ड से डील हुई थी। इस डील के बदले फर्म ने भारतीयों को रिश्वत दी थी।

क्या कहा था कांग्रेस ने कांग्रेस ने कहा था कि उसके नेताओं पर आरोप लगाए जा रहे हैं। देश की जनता चाहती है कि इस मामले में दोषी नेताओं के नाम सामने आने चाहिए और उनके खिलाफ जांच होनी चाहिए। हमारी पार्टी की मांग है कि इस मामले की जांच निष्‍पक्ष होनी चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं हो पा रहा है। हमारी मांग है कि इस मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में होनी चाहिए क्‍योंकि पिछल कुछ वर्षों में सीबीआई की जांच का राजनीतिकरण होने लगा है।

इससे पहले मामले पर राज्यसभा में सुब्रमण्यम स्वामी ने कांग्रेस को चुनौती देते हुए कहा कि हमारे पास जो तथ्य हैं, उनको विपक्ष नकार नहीं सकता। वहीं बीजेपी ने कहा था कि इस मामले में काफी गड़बड़ी हुई है और इटली की कोर्ट का जो हवाला दिया जा रहा है, उससे लगता है कि कुछ तो गड़बड़ी हुई है। हालांकि कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा था कि इटली कोर्ट के फैसले के मुताबिक सोनिया गांधी के खिलाफ कोई सबूत नहीं हैं।