सुप्रीम कोर्ट ने आधार कार्ड का मामला 9 सदस्यीय संविधान पीठ को सौंपा

नई दिल्ली (18 जुलाई): क्या आधार निजता के अधिकार का उल्लंघन करता है? आधार के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट की 5 जजों की संविधान पीठ सुनवाई की। सुप्रीम कोर्ट ने आधार कार्ड के मामले की सुनवाई करते हुए आज इस  केस को 9 सदस्यीय संविधान पीठ के पास भेज दिया है। अब दो दिनों तक यह पीठ लगातार मामले से जुड़े सभी पक्षों की बात सुनेगी। पहले इस मामले को पांच जजों की बेंच को सुनवाई करनी थी, लेकिन आज कोर्ट ने सुनवाई के बाद इस मामले को 9 सदस्यीय बेंच के पास भेज दिया। 

पांच जजों की बेंच ने आज सुनवाई करते हुए कहा कि जरूरी है यह तय हो कि क्या संविधान के तहत निजता का अधिकार है या नहीं, इसलिए इस मामले को नौ सदस्यों वाली पीठ के पास भेजा जाना चाहिए। यह इसलिए करना पड़ा क्योंकि 1954 में 8 जजों की बेंच ने और 1962 में 6 जजों की बेंच यह फैसला सुना चुकी है कि निजता का अधिकार नहीं होता। इसलिए इस मामले में अटॉर्नी जनरल ने कहा कि 9 जजों की बेंच का गठन होना चाहिए।