SBI ने दिया ग्राहकों को झटका, बढ़ेगा EMI का बोझ

नई दिल्ली (1 जून): SBI बैंक ने 1 जून 2018 से सभी अवधि की अपनी प्रभावी एमसीएलआर दरों में 0.10 प्रतिशत की वृद्धि कर दी है। एमसीएलआर में होने वाली वृद्धि का सीधा असर कर्जदारों द्वारा चुकाए जाने वाले ब्‍याज पर पड़ता है। एमसीएलआर बढ़ने से आमतौर पर ईएमआई भी बढ़ जाती है।

एमसीएलआर को मार्जिनल कॉस्‍ट ऑफ लेंडिंग रेट कहते हैं, जो कि कर्जदारों के लिए ऋण लागत तय करने का मुख्‍य पैमाना है। एसबीआई ने यह कदम आरबीआई द्वारा 6 जून को घोषित की जाने वाली द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा से ठीक पहले उठाया है। एसबीआई द्वारा एमसीएलआर में इस साल यह दूसरी बार वृद्धि की गई है। एसबीआई इससे पहले मार्च 2018 में एमसीएलआर को बढ़ा चुकी है। मार्च में की गई वृद्धि 2016 के बाद की गई पहली वृद्धि थी।