SBI ने अपने ग्राहकों को दिया ये दिवाली गिफ्ट

नई दिल्ली (27 सितंबर): अगर आपका खाता बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) में है तो यह खबर आपके लिए किसी खुशखबरी से कम नहीं है। SBI की तरफ से जानकारी दी गई है कि पहली अक्टूबर से खाता बंद कराने के शुल्क में बदलाव हो जाएगा।

नए नियमों के मुताबिक खाता खुलने के एक साल के बाद अगर कोई ग्राहक खाता बंद कराता है तो उसे किसी तरह का शुल्क नहीं चुकाना पड़ेगा। इसके अलावा किसी व्यक्ति की मृत्यु के बाद अगर उसका खाते की सेटलमेंट की जाती है और खाता बंद किया जाता है तो भी किसी तरह का शुल्क लागू नहीं होगा। रेग्युलर सेविंग बैंक एकाउंट और बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट (BSBD) एकाउंट के बंद कराने पर भी किसी तरह का शुल्क नहीं वसूला जाएगा। अबतक इस तरह के सभी खातों को बंद करने या सेटल करने पर 500 रुपए का शुल्क और साथ में गुड्स एंड सर्विस टैक्स लागू होता है।

SBI की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक अगर कोई खाता धारक खाता खुलने के 14 दिन के अंदर उसे बंद कराता है तो भी उसपर किसी तरह का शुल्क लागू नहीं होगा। लेकिन खाता खुलने के 14 दिन बाद से लेकर एक साल के अंदर उसे बंद किया जाता है तो 500 रुपए शुल्क के साथ गुड्स एंड सर्विस टैक्स वसूला जाएगा। इससे पहले SBI ने मेट्रो शहरों के सेविंग खातों में न्यूनतम मासिक बैलेंस की लिमिट को 5000 रुपए से घटाकर 3000 रुपए करने की घोषणा की थी। साथ में पेंशनर्स के खाते, सरकारी योजनाओं का लाभ उठाने के लिए खोले गए खाते और कम उम्र के ग्राहकों के खातों को भी न्यूनतम मासिक बैलेंस के नियम से बाहर कर दिया था।