बदल गया नियम, मिनिमम बैलेंस न होने पर अब आप से इतना पैसा लेता है SBI

नई दिल्ली(4 दिसंबर): स्टेट बैंक ऑफ इंडिया अकाउंट में मिनिमम बैलेंस न होने पर आप से चार्ज वसूलता है। इन चार्जेस से बचने के लिए ग्राहकों को बैलेंस अकाउंट में रखना जरूरी होता है। लेकिन लोगों को ये नहीं पता होता कि बैंक उनसे कितना चार्ज वसूल कर रहा है। कुछ समय पहले एसबीआई इन नियमों में बदलाव भी कर चुका है। 

- मेट्रो सिटी कस्टमर्स को अब कम से कम 3 हजार रुपए का बैलेंस अपने अकाउंट में रखना जरूरी है। इन कस्टमर्स को मंथली एवरेज बैलेंस यदि 2999 से लेकर 1500 रुपए के बीच होता है तो इन्हें 30 रुपए की पेनल्टी देना होगी। वहीं महीने के आखिर में यदि एवरेज बैलेंस 1499 से 750 रुपए के बीच होता है तो कस्टमर्स को 40 रुपए पेनल्टी देना होती है। वहीं 750 रुपए से बैलेंस कम होने पर यह पेनल्टी 50 रुपए हो जाती है।

- अर्बन एसबीआई कस्टमर्स को अकाउंट में कम से कम 3 हजार रुपए का बैलेंस मेंटेन करना जरूरी है। अब यह मेट्रो सिटी के कस्टमर्स के बराबर ही हो चुका है। पहले मेट्रो सिटी कस्टमर्स को 5 हजार रुपए मिनिमम रखना जरूरी था। कुछ समय पहले एसबीआई ने मेट्रो सिटी वाले अकाउंट होल्डर्स के लिए अमाउंट कम कर दिया लेकिन अबर्न कस्टमर्स के लिए राशि कम नहीं की गई।

- सेमी अबर्न एरिया वाले कस्टमर्स को अकाउंट में मिनिमम 2 हजार रुपए रखना जरूरी है। ऐसे कस्टमर्स का बैलेंस यदि 1999 से लेकर 1 हजार रुपए के बीच होता है तो इन्हें 20 रुपए पेनल्टी के तौर पर देना होंगे। वहीं मिनिमम बैलेंस 999 से 500 रुपए के बीच होता है तो 30 रुपए की पेनल्टी लगेगी। वहीं मिनिमम बैलेंस 500 रुपए से भी कम हुआ तो 40 रुपए कस्टमर्स को चुकाना होते हैं।

- रूरल एरिया के स्टमर्स को 1 हजार रुपए का बैलेंस अकाउंट में रखना जरूरी है। इन कस्टमर्स के लिए भी पेनल्टी सेमी अर्बन कस्टमर्स की तरह ही है। इन कस्टमर्स के अकाउंट का MAB 999 रुपए से लेकर 500 रुपए के बीच रहा तो इन्हें 20 रुपए की पेनल्टी देना होती है। 499 से 250 रुपए MAB हुआ तो पेनल्टी 30 रुपए होती है। वहीं 249 या इससे कम अमाउंट होने पर पेनल्टी 40 रुपए हो जाती है।