लॉडर्स में टी-शर्ट उतार गांगुली ने लिया था फ्लिंटॉफ से बदला

नई दिल्ली(8 जुलाई): आज दुनिया के सफलतम कप्तानों में से एक रहे बंगाल टाइगर सौरव गांगुली का जन्मदिन है। बैटिंग हो या बॉलिंग, कप्तानी हो या फिर टीम को जोड़े रखने वाली बात गांगुली हर जगह अव्वल ही थे। क्रिकेट के मैदान से इतर इस गांगुली की छवि एक एग्रेसिव बंदे की रही है।

लॉडर्स में उतारी टी-शर्ट

लार्डस में इंडिया ने इंग्लैंड के खिलाफ नेटवेस्ट सीरीज जीती थी तो गांगुली ने बिना परवाह किये अपनी टी-शर्ट उतारकर हवा में लहरा दी थी। वो तस्वीर आज भी हर क्रिकेट प्रेमी के जेहन में जिंदा है। हालांकि गांगुली के इस कदम के बाद उनकी देश में ही काफी आलोचना हुई थी लेकिन जब गांगुली ने ऐसा करने के पीछे अपना कारण बताया तो हर किसी का सिर इस महान क्रिकेटर और सच्चे हिंदुस्तानी के सामने झुक गया था। 

गांगुली ने कहा था कि मैंने शर्ट उतारकर अंग्रेजों को ये साबित किया था कि हम मैच खेल भावना से खेलते हैं और खेल में हार-जीत होती रहती है लेकिन इसका मतलब ये नहीं आप इस बात के लिए हारी वाली टीम पर तंज कसो या फिर उन्हें कमेंट करो। दरअसल साल 2002 में इंग्लैंड के एंड्यू फ्लिंटॉफ ने इंडिया में वानखेड़े में जीत के बाद टी-शर्ट उतारकर दौड़ लगाई थी और गांगुली को नीचा दिखाने की कोशिश की थी, इसलिए जब दादा की टीम ने इंग्लैंड को उसी के घर में हराकर जीत दर्ज की तो उन्होंने फ्लिंटॉफ को उन्हीं की भाषा में जवाब दिया था