नर्क से भी बदतर है सऊदी अरब की औरतों की जिंदगी...चाह कर भी नहीं कर सकतीं ये काम

नई दिल्ली (10 सितंबर): सऊदी अरब में कट्टर पंथी मर्द अमीरों की जमात है। हर तरह के ऐशों-आराम होने के बावजूद, यहां की महिलाओं की जिंदगी काफी मुश्किल है। इस देश में ऐसे कई नियम हैं जिनमें महिलाओं के लिए कई काम बैन किये है। 

- सऊदी अरब में महिलाओं के ड्रेस कोड को लेकर सख्त कानून बनाए गए हैं। स्विमिंग कॉस्ट्यूम्स पहनना यहां की महिलाओं के लिए मना है। इस वजह से महिलाएं स्विमिंग भी नहीं कर सकती हैं।

- सऊदी अरब में महिलाएं शॉपिंग करते हुए चेंजिंग रूम में कपड़े ट्राय नहीं कर सकतीं हैं। वहां के आदमियों को महिलाओं का यूं मॉल में कपड़े चेंज करना बिल्कुल पसंद नहीं है।

- साल 2012 में पहली बार सऊदी अरब की महिलाओं ने ओलंपिक में भाग लिया था। पर उन्हें काफी बदनामी झेलनी पड़ी थी। महिलाएं बिना सर ढंके किसी भी स्पोर्ट्स में भाग नहीं ले सकती हैं। 

- यही नहीं, बिना किसी मेल गार्जियन के कोई भी महिला खिलाड़ी किसी टूर्नामेंट में हिस्सा नहीं ले सकतीं।

- सऊदी अरब के नियमों मुताबिक बार्बी डॉल्स के कपड़े काफी भड़काऊ होते हैं। इस कारण वहां महिलाओं के लिए इन डॉल्स को खरीदना बैन है।

- सऊदी अरब में महिलाओं को बिना मेल गार्जियन के बैंक अकाउंट खुलवाने की अनुमति नहीं है।

- सऊदी अरब की महिलाएं अपने फीचर्स को उभारने के लिए मेकअप भी नहीं कर सकती हैं। कानून के मुताबिक, महिलाएं मेकअप करके घर के अंदर ही रह सकती हैं। उनके अनुसार ऐसा करना महिलाओं की सुरक्षा के लिए जरुरी है।

- सऊदी अरब में ऐसा कोई लिखित कानून तो नहीं है पर यहां की महिलाएं ड्राइव नहीं करतीं। हालांकि, अब महिलाएं बच्चों को स्कूल पहुंचाने के लिए ड्राइव कर सकती हैं।