सऊदी राजदूत के बयान पर इराक में तीखी प्रतिक्रिया

नई दिल्ली (25 जनवरी): लगभग एक चौथायी शताब्दी के बाद ईराक और सऊदी अरब के बीच शुरु हुए राजनयिक संबंधों में एक बार फिर से खटास पैदा हो गयी है। यह खटास सऊदी अरब के राजदूत तमर-अल सभान के बयान के बाद आये हैं। 'डॉन डॉट कॉम' ने लिखा है कि सभान ने एक टीवी इंटरव्यू में कहा था कि आईएसआईएस के खिलाफ चल रही जंग में इराकी फौजों से हाशिद शाबी मिलिशिया को अलग हो जाना चाहिए। इससे क्षेत्र में बढ़ रहे तानाव में कुछ कमी आ जायेगी।

इराकी सरकार ने सऊदी अरब के राजदूत के इस बयान की निंदा की है और कहा है कि हाशिद शाबी आतंकवाद के खिलाफ इराकी फौजों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर लड़ रहे हैं, और वो संयुक्त कमान के कमांडर इन चीफ के आदेशों का पूरी तरह पालन करते हैं। इराक सरकार ने सऊदी राजदूत के बयान को इराक के अंदरूनी मामलों में बेवजह दखल अंदाजी बताया है। वहीं हाशिद शाबी के प्रवक्ता अहमद अल अस्सदी ने कहा है कि तमर अल सभान आतंकवाद का समर्थन करने वाले देश के राजदूत हैं, उन्होंने इराक सरकार से कहा है कि तमर को तत्काल अपने देश वापस भेजा जाये।