सऊदी अरब के इस फत्वे औरतों के बारे में कही गयी ऐसी बात कि मच गया है बवाल !

नई दिल्ली (24 फरवरी):  सऊदी अरब के  एक मुफ़्ती  ने एक ऐसा फ़तवा जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि 'सऊदी अरब के पुरुष अगर भूख से परेशान हों, और कोई भी चीज खाने को न हो तो वो अपनी पत्नियों को भोजन की तरह इस्तेमाल कर सकते हैं। ये फ़तवा अभी नहीं, बल्कि 2015 में ही जारी किया गया था, लेकिन पिछले कुछ दिनों से इस पर ख़ूब चर्चाएं हो रही हैं। इतना ही नहीं, मौलवी का ऐसा मानना है कि ये महिलाओं का बलिदान और पति के प्रति आज्ञाकारिता का भाव दिखायेगा। 

मानव अधिकार वाले इस फ़तवे के खिलाफ़ जम कर बरस पड़े हैं। इस फ़तवे में ऐसा बताया गया है कि किन परिस्थितियों में पुरुष अपनी पत्नी के अंगों को खा सकता है। ये मौलवी और उसके फतवे तब चर्चा में आये, जब उसने इस्लामिक क़ानून का हवाला देकर अपने अनुयायियों ये कहा था कि सारे गिरजाघरों को तोड़ देना चाहिए। हालांकि बाद में ये मौलवी साबह अपनी बात से पलट गये और बोले  ऐसा कोई फ़तवा जारी नहीं किया है। (न्यूज24 किसी भी तथ्य की पुष्टि नहीं करता है)