सऊदी अरब में विरोध प्रदर्शन में शामिल होने पर विकलांग को मिली सजा-ए-मौत

नई दिल्ली ( 28 मई ): सऊदी अरब में एक विकलांग व्यक्ति को कोर्ट ने मौत की सजा सुनाई है। जानकर आप हैरान हो जाएंगे कि केवल इसलिए उसे मौत की सजा सुनाई है, क्योंकि वह एक विरोध प्रदर्शन में शामिल हो गया था। 23 साल के मुनीर अल-अदम की गलती बस यही थी कि वह एक विरोध प्रदर्शन में शामिल हुआ था। इस प्रदर्शन के दौरान ही पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया था। अदालत ने मुनीर के प्रदर्शन में शामिल होने को उसका अपराध मानते हुए उसका सिर धड़ से अलग करने की सजा सुनाई है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सऊदी के पूर्वी हिस्से में, जहां शिया समुदाय की तादाद ज्यादा है, वहां साल 2012 में एक प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने मुनीर को इतनी बुरी तरह पीटा कि उसके सुनने की शक्ति चली गई। इसके बाद मुनीर पुलिस हिरासत में ही रहा और अब एक अदालत ने मुनीर को मिली सजा पर अमल करने का आदेश जारी किया है। मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने मुनीर को सुनाई गई सजा की निंदा की है। इन कार्यकर्ताओं ने मांग की है कि व्हाइट हाउस इस मामले में दखल दे और मुनीर को बचाए।

मुनीर को पिछले साल एक विशेष आपराधिक कोर्ट में यह सजा सुनाई गई थी। उनके खिलाफ काफी गुपचुप तरीके से मामला चला और अदालती कार्रवाई को बेहद गुप्त रखा गया। इस फैसले की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी काफी आलोचना हुई, लेकिन इसके बाद भी सऊदी की एक अपील कोर्ट ने मुनीर की सजा पर अमल किए जाने का निर्देश दिया है। मुनीर के पास अब केवल एक ही मौका बचता है। इससे पहले कि सऊदी के सुल्तान सलमान उनकी मौत के वॉरंट पर दस्तखत करें, मुनीर उनके सामने सजा माफ किए जाने की अपील पेश कर सकते हैं।