सऊदी अरब ने क्रूड ऑयल के दाम 24.35 रुपए प्रति बैरल घटाए

 

नई दिल्ली (6 जून) :  सऊदी अरब और ईरान के बीच तनातनी का असर तेल पर भी दिखाई दे रहा है। सऊदी अरब ने रविवार को यूरोप के लिए तेल की कीमतों में कटौती का एलान किया। सऊदी अरब ने ये कदम ओपेक की ओर से आउटपुट की हद तय करने में नाकाम रहने और ईरान की ओर से तेल का निर्यात बढ़ाए जाने के बाद उठाया है।

सऊदी अरब की सरकारी तेल कंपनी सऊदी अरामको ने ग्राहकों को भेजे ईमेल में कहा है कि वो यूरोप के लिए अपने हल्के कच्चे तेल की कीमत 35 सेंट (24.35 रुपए) प्रति बैरल घटा रहा है। इसी तरह भूमध्यसागरीय क्षेत्र के लिए प्रति बैरल दाम 10 सेंट (6.70 रुपए) घटाने की घोषणा की गई।

तेल के दामों में ये कमी ऐसे वक्त में हैरान करने वाली है जबकि साल की दूसरी छमाही में तेल की मांग बढ़ती है। बता दें कि पिछले हफ्ते उत्पादन की हदबंदी तय करने में ओपेक देश नाकाम रहे थे। यही वजह है कि इस ग्रुप के दो सबसे असरदार देशों- सऊदी अरब और ईरान को अपनी इच्छा के मुताबिक तेल के उत्पादन की छूट मिल गई है।

ईरान ने बीते बुधवार को साफ कर दिया था कि तेल के उत्पादन की किसी तरह की भी हदबंदी उसके हितों के खिलाफ होगी। ईरान का कहना है कि वो अभी पश्चिमी देशों के आर्थिक प्रतिबंधों से उबरा है, ऐसे में वो आर्थिक मोर्चे पर वापसी के लिए वो सब कुछ करेगा, जो उसे करना चाहिए।