27 साल बाद खुलेगी सऊदी अरब और इराक की सीमा

नई दिल्ली ( 15 अगस्त ): सऊदी अरब और इराक व्यापार के लिए 27 साल बाद बॉर्डर क्रॉसिंग खोलने की तैयारी कर रहे हैं। 1990 के बाद यह पहला मौका है, जब दोनों देशों के बीच कारोबार के लिए सीमाएं खुलेंगी। इराक के तत्कालीन तानाशाह सद्दाम हुसैन की ओर से कुवैत पर हमला किए जाने के खिलाफ सऊदी अरब ने कारोबार के लिए सीमा चौकियों को बंद कर दिया था। अब दोनों देशों के बीच महत्वपूर्ण अरार बॉर्डर क्रॉसिंग को खोला जाएगा। सऊदी अरब मीडिया की रिपोर्ट्स में इस बात की जानकारी दी गई है।

खबरों के मुताबिक सोमवार को सऊदी अरब और इराक के अधिकारियों ने ब्रॉर्डर क्रॉसिंग का दौरा किया और इराकी तीर्थयात्रियों से इस मामले में बातचीत की। इन लोगों को बीते 27 साल से वर्ष में सिर्फ एक बार ही हज यात्रा के दौरान सीमा पार करने की अनुमति थी।

इराक के दक्षिणपश्चिमी सूबे अनबार के गवर्नर ने बताया कि हमारी ओर से इस रेतीले रास्ते पर सैनिकों की तैनाती की गई है और यह कदम दोनों देशों के संबंधों को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगा। शोएब अल-रावी ने कहा, 'इराक और सऊदी अरब के सुनहरे संबंधों के लिए यह एक बेहतरीन शुरुआत है।' 

गौरतलब है कि अपने कट्टर प्रतिद्वंद्वी ईरान के मुकाबले बढ़त बनाने के लिए सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात क्षेत्र के अन्य इस्लामिक देशों को अपने साथ जोड़ने के प्रयास कर रहे हैं।