जानें क्यों, पाकिस्तान समेत कई देशों में सऊदी अरब के लोगों की इंट्री पर लगा रखा है बैन ?

रियाद (22 फरवरी): आज ही के दिन 22 फरवरी 1948 को सऊदी अरब ने जेरुसलम पर आक्रमण करते हुए बम बरसाया था। सऊदी अरब के इस हमले में जेरुसलम 50 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी। जिसके बाद से दुनिया के कई देशों ने सऊदी अरब से अपना नाता तोड़ लिया। हालांकि वर्तमान में जितने भी मुस्लिम देश हैं, उनमें सऊदी अरब सबसे समृद्ध देश माना जाता है। लेकिन बर्बर कानून व्यवस्था के कारण यह आज पूरी दुनिया में बदनाम है।

- पर्यटन के लिए थाईलैंड दुनिया भर में मसहूर है लेकिन सऊदी अरब के लोगों का यहां आना मना है। अगर सऊदी अरब में रहने वाला कोई भी शख्स थाईलैंड जाता है तो उस पर 3 साल का ट्रैवल बैन के साथ-साथ 2 लाख रुपए का जुर्माना लगा दिया जाता है।

- जनवरी 2016 में ईरान के सऊदी एम्बेसी पर ईरान के लोगों ने हमला कर दिया था। इसके बाद से दोनों देशों के बीच हर तरह के डिप्लोमैटिक संबंध तोड़ दिए गए थे। साथ ही सऊदी अरब के लोगों का ईरान जाना बैन कर दिया गया था।

- सऊदी अरब की नजर में आज भी इजरायल अलग और स्वतंत्र देश नहीं है। इन दोनों देशों के बीच किसी तरह के राजनयिक संबंध भी नहीं है। इस कारण लोगों को इजरायल जाने की इजाजत नहीं है।

- इतना ही नहीं सऊदी अरब के लोगों को पाकिस्तान जाने के लिए सऊदी मिनिस्ट्री से इजाजत लेनी पड़ती है। पाकिस्तान की कमजोर सिक्युरिटी और तालिबानी गतिविधियों की वजह से इस देश में जाने पर सऊदी अरब ने बैन लगा रखा है।

- इस देश में मौजूद तालिबानी मिलिटेंट ग्रुप की वजह से सऊदी अरब के लोगों को अफगानिस्तान जाने के लिए वीजा नहीं मिलता है।