'सऊदी अरब और तुर्की आतंकी विचार फैलाने वाले अगुवा देश'

नई दिल्ली (13 मार्च): सीरिया के वक़्फ़ मंत्री मुहम्मद सत्तार ने कहा है कि दमिश्क में हजरत सकीना के गौसे के पास हुए बम धमाके करने वालों को बहावियों से समर्थन, शरण और पैसा मिल रहा है। सत्तार ने कहा कि सऊदी अरब और तुर्की बहावियत के पोषक हैं। इनके पीछे-पीछे अब क़तर भी चलने लगा है। सत्तार ने यह भी कहा कि बहावियों को इस्लाम का अनुयायी नहीं माना जा सकता। 

 इस्लाम में किसी भी निर्दोष की हत्या को हराम बताया गया है।सीरिया के वक़्फ़ मंत्री मुहम्मद सत्तारने  ने बल देकर कहा है कि सऊदी अरब, क़तर और तुर्की इस्लामी देश नहीं हैं बल्कि संसार में आतंकवादी विचार फैलाने वाले अगुवा देश हैं। सऊदी अरब, क़तर और तुर्की अपने विचार निर्यात करके संसार के लोगों की हत्या करवा रहे हैं। ये देश, इस्लाम की छवि बिगाड़ कर, इस्लाम के नाम पर अपने अपराधों का औचित्य पेश करना चाहते हैं।