मुंबई के 'सुपर कॉप' को मिली केंद्र में एंट्री

नई दिल्ली(3 सितंबर):  पीएम मोदी ने रविवार को अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया। इस बार केंद्रीय मंत्रिमंडल में 9 नए चेहरों को शामिल किया गया है। 

इन 9 चेहरों में मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर सत्यपाल सिंह भी हैं। उन्होंने रविवार को मंत्रीपद की शपथ ली। 

- सत्यपाल सिंह का 29 नवंबर, 1955 को बागपत के बसौली गांव में हुआ था। पुलिस सेवा में जाने से पहले वे एक वैज्ञानिक बनना चाहते थे। उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से कैमिस्ट्री में एमफिल की डिग्री हासिल की। नागपुर यूनिवर्सिटी से उन्होंने नक्सलिज्म पर शोध भी किया। 1980 में महाराष्ट्र कैडर से उनका चयन भारतीय पुलिस सेवा में हुआ। 

- 1990 के दशक में मुंबई में छोटा राजन, छोटा शकील और अरुण गवली गिरोहों का आतंक था। पुलिस सेवा के दौरान उन्होंने कई उल्लेखनीय कार्य किए।

- सत्यपाल सिंह उत्तर प्रदेश के बागपत से लोकसभा सांसद हैं। इसके अलावा सत्यपाल संसदीय समिति (ऑफिस ऑफ प्रॉफिट) के सदस्य भी हैं। 

- साल 2008 में सरकार की तरफ से उन्हें आंतरिक सुरक्षा पदक दिया जा चुका है साथ ही 1990 में आंध्र प्रदेश और मध्य प्रदेश में नक्सली प्रभावित इलाकों में असाधारण काम करने के लिए उन्हें स्पेशल सर्विस मेडल दिया जा चुका है।

- सत्यपाल मुंबई, पुणे और नागपुर के पुलिस कमिश्नर भी रह चुके हैं। साल 1990 में मुंबई में हो रहे क्राइम को खत्म करने का श्रेय भी इन्हें दिया जाता है।

- पश्चिमी यूपी से जाट समुदाय का चेहरा रहे केंद्रीय राज्यमंत्री डॉ. संजीव बालियान की मंत्रीपद से छुट्टी हो चुकी है। ऐसे में उनकी जगह सत्यपाल सिंह को मंत्रीपद में शामिल किया गया है। 

- बीजेपी ने लोकसभा चुनाव में उन्हें तत्कालीन नागर विमानन मंत्री तथा राष्ट्रीय लोक दल के अध्यक्ष अजित सिंह के खिलाफ बागपत लोकसभा सीट से खड़ा किया। सत्यपाल सिंह ने यह सीट दो लाख से अधिक मतों से जीतकर रिकॉर्ड कायम किया। बीजेपी ने इस सीट पर पहली बार जीत हासिल की। जबकि अजित सिंह का इस सीट पर 1989 से कब्जा था।