सत्यपाल सिंह की हिंदुओं को सलाह, गंगा में प्रवाहित ना करें अस्थियां

नई दिल्ली (20 दिसंबर): केंद्र सरकार में मंत्री सत्यपाल सिंह ने हिंदुओं से गंगा नदी में अस्थियां न प्रवाहित करने की अपली की है। उन्होंने अपील की है कि पर्यावरण और नदियों की सफाई को ध्यान में रखते हुए हिंदू समाज को अस्थियां प्रवाहित करने पर रोक लगानी चाहिए। इसी के साथ संत समाज को चाहिए कि वो भी हिंदु समाज को इसके लिए जागरूक करें।

सत्यपाल सिंह ने कहा कि अस्थियों को जमीन पर इकट्ठा करके पूर्वजों के नाम का पौधा लगाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि परिस्थिति को देखते हुए मैं सभी से अपील करता हूं कि गंगा में प्रवाहित करने के बजाय अस्थियों को किसी जमीन पर एक स्थान पर इकट्ठा के उसके ऊपर पौधे लगाए जाएं। ताकि आने वाली पीढ़ी उस पौधे में अपने पूर्वजों की छवि देख सकें। इस विषय में सभी पुजारियों से आग्रह करता हूं कि लोगों में गंगा की सफाई को लेकर जागरुकता फैलाएं।

सत्यपाल ने साथ ही यह भी कहा, 'लोगों की आस्था है लेकिन समय की मांग के चलते जरूरत है कि हम उस दोबारा ध्यान दे और कुछ भी ऐसा न करें जिससे गंगा की शुद्धता पर असर पहुंचे।' कार्यक्रम में मौजूद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि औद्योगिक संस्थानों, गंगा के तट पर बसे गांवों के कूड़े-कचरे, कृषि में इस्तेमाल हो रहे केमिकल्स और कपड़ों के प्रयोग से गंगा अधिक प्रदूषित हो रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि गोमुख से गंगा सागर तक गंगा के 2500 किमी के प्रवाह को अविरल व निर्मल बनाए रखने के लिए समाज के प्रत्येक वर्ग को आगे आना होगा।