SC से झटका, बेंगलुरु जाने से पहले जया की समाधि पर पहुंची शशिकला

चेन्नई (15 फरवरी): सुप्रीम कोर्ट ने शशिकला को सरेंडर के लिए वक्त देने से इनकार कर दिया। शशिकला ने सरेंडर के लिए 2 हफ्ते का समय मांगा था। कोर्ट ने कहा कि ऐसा नहीं किया जा सकता। फैसला बरकरार रहेगा। तुरंत सरेंडर करें। इसके बाद शशिकला बेंगलुरु निकलने के पहले जयललिता की समाधि पर पहुंची। इससे पहले वे विधायकों के साथ बातचीत में रो पड़ीं। उन्होंने कहा, कि कोई ताकत मुझे पार्टी से अलग नहीं कर सकती। मैं हमेशा इसके लिए काम करती रहूंगी।

 

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद शशिकला गोल्डन बे रिजॉर्ट में विधायकों से मिलने पहुंची। विधआयकों से मुलाकात के बाद शशिकला रो पड़ीं। कहा कि मैं पार्टी के लिए काम करती रहूंगी। बताया जाता है कि रिजॉर्ट में शशिकला के साथ करीब 100 विधायक थे। शशिकला ने कहा कि मुझे खुशी है कि तमाम मुश्किलों के बावजूद इतने एमएलए ने मेरा सपोर्ट किया।

आपको बता दें कि बेहिसाब प्रॉपर्टी के केस में 21 साल बाद तय हुआ कि जया-शशिकला की आय से ज्यादा बेहिसाब प्रॉपर्टी 8% नहीं, 541% थी। सुप्रीम कोर्ट ने ट्रायल कोर्ट के फैसले पर मुहर लगाई थी। सुप्रीम कोर्ट ने ट्रायल कोर्ट के फैसले को बरकरार रखते हुए हाईकोर्ट के फैसले को पलट दिया था। इसके मुताबिक, शशिकला को 4 साल जेल में गुजारने होंगे। सजा के 6 साल बाद तक वे चुनाव नहीं लड़ सकेंगी। 10 साल तक उनके पास कोई राजनीतिक पद भी नहीं रहेगा।