ममता के करीबी राजीव कुमार पर गिरफ्तारी की तलवार, पूछताछ के लिए CBI ने जारी किया समन

Image Source: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (27 मई): कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर सीबीआई की टीम ने दबिश दी, लेकिन राजीव कुमार घर पर नहीं मिले। इसके बाद राजीव कुमार को पूछताछ के लिए आज सीबीआई के सामने पेश होने का समन दिया गया है। इससे पहले शनिवार को राजीव कुमार के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया गया था। राजीव पर शिंकजा लगातार कसता जा रहा है। राजीव पर सारदा घोटाले की जांच प्रभावित करने का आरोप है।

सारदा चिट फंड घोटाले के मामले में कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी करने के बाद सीबीआई टीम रविवार शाम उनकी तलाश में आईपीएस के आवास पहुंची। इसके बाद सीबीआई की टीम कोलकाता के पार्क स्ट्रीट स्थित डिस्ट्रिक्ट कमिश्नर ऑफ पुलिस के दफ्तर पर भी गई। सीबीआई ने राजीव कुमार को नोटिस जारी करते हुए सोमवार को कोलकाता स्थित सीबीआई दफ्तर बुलाया है ताकि मामले को लेकर पूछताछ की जा सके। वहीं, राज्य की ममता सरकार ने राजीव से ड्यूटी पर लौटने को कहा है। चुनाव आयोग ने कोलकाता के पूर्व कमिश्नर राजीव कुमार को दिल्ली भेजा था।

सीबीआई का कहना है कि वे राजीव कुमार को कस्टडी में लेकर पूछताछ करना चाहते हैं। इसका मतलब यह है कि अगर राजीव कुमार सोमवार को पूछताछ के लिए सीबीआई के सामने पेश होते हैं तो सीबीआई उन्हें गिरफ्तार कर सकती है। हाल ही में लोकसभा चुनाव के दौरान चुनाव आयोग ने राजीव कुमार का तबादला दिल्ली कर दिया था, लेकिन आचार संहिता समाप्त होने के बाद उन्हें एक बार फिर से कोलकाता पुलिस ज्वाइन करने को कहा गया है।

आपको बता दें कि राजीव कुमार पर शारदा चिटफंड और रोजवैली स्कैम की जांच के दौरान सबूतों से छेड़छाड़ का आरोप है। शारदा घोटाले की जांच के लिए 2013 में ममता सरकार ने एसआईटी का गठन किया था। इसकी अगुवाई राजीव कुमार कर रहे थे। बाद में इस मामले को सीबीआई के पास भेज दिया गया था। सीबीआई का दावा है कि केस ट्रांसफर होने के बाद भी राजीव कुमार ने कई सबूतों को उन्हें नहीं सौंपा और उन्होंने कई सबूतों को नष्ट कर दिया था।