खटाई में मोदी की 'सांसद आदर्श ग्राम योजना', इतने नेताओं ने नहीं लिया गांव गोद

नई दिल्ली (23 जून): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सांसद आदर्श ग्राम योजना अपने दूसरे चरण में खटाई में पड़ती नजर आ रही है। सरकार में पीएम नरेंद्र मोदी को छोड़कर कई बड़े मंत्रियों ने ही दूसरे गांव को अबतक गोद नहीं लिया है।

दरअसल मोदी मंत्रिमंडल में सभी सांसदों को 2016 तक दो गांव और 2019 तक दो और गांव गोद लेकर उसका विकास कराना था। लेकिन मोदी मंत्रीमंडल में 66 में से सिर्फ 16 मंत्रियों ने गांव को गोद नहीं लिया है। गांव गोद न लेने वालों में बड़े चेहरे शामिल हैं। जैसे अरुण जेटली, राजनाथ सिंह, वेंकैया नायडू, मनोहर पर्रिकर और नितिन गडकरी। अगर दोनों सदनों के सांसदों पर नजर डालें तो कुल मिलाकर 795 में से केवल 87 सांसदों ने ही दूसरा गांव गोद लिया है। दरअसल सांसद आदर्श ग्राम योजना में अलग से कोई फंड की वयवस्था नहीं की गई है। जानकारों के मुताबिक ऐसे में सांसदों भी इस योजना से अपना पल्ला झाड़ रहे हैं।