कोई टैक्स चोरी नहीं की, तेलंगाना सरकार ने 1Cr का इन्सेटिव दिया था: सानिया

नई दिल्ली(16 फरवरी): टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने अपने ऊपर लगे सर्विस टैक्स चोरी के आरोपों को खारिज किया है। सानिया ने भेजे गए समन के जवाब में कहा कि एक करोड़ रुपए उन्हें तेलंगाना सरकार ने बतौर 'ट्रेनिंग इन्सेंटिव' दिए थे।

- आपको बता दें कि सानिया को 6 फरवरी को टैक्स चोरी को लेकर समन दिया गया था।

- गुरुवार को सानिया की तरफ से उनके चार्टर्ड अकाउंटेंट सर्विस टैक्स अथॉरिटीज से मिले। फिलहाल सानिया विदेश में हैं।

- अफसरों के मुताबिक, "सानिया के रिप्रेजेंटेटिव ने हमें डॉक्युमेंट पेश किए। उन्होंने बताया कि उन्हें मिले एक करोड़ रु. तेलंगाना सरकार ने ट्रेनिंग इन्सेंटिव के रूप में दिए थे।"

- "ये पैसे उन्हें राज्य का ब्रांड एम्बेसडर होने के नाते नहीं दिए गए।"

- हालांकि अफसरों ने ये भी कहा कि सानिया की तरफ से पेश किए गए डॉक्युमेंट्स की जांच की जा रही है।

- इससे पहले सर्विस टैक्स के प्रमुख कमिश्नर ने सानिया को टैक्स न देने के मामले में ऑफिस में पेश होने के लिए कहा था।

- अफसरों ने पहले ये कहा था कि सानिया को एक करोड़ की रकम उनके ब्रांड एम्बेसडर बनने को लेकर दी गई है। अगर ऐसा है तो उन्हें सर्विस टैक्स देना होगा।

- दरअसल, सानिया को तेलंगाना सरकार ने जुलाई 2014 में स्टेट का ब्रांड एम्बेसडर बनाया था।

- इसके बाद सानिया को 1 करोड़ की रकम दी गई थी। टैक्स चोरी का यह मामला इसी 1 करोड़ की रकम से जुड़ा है।

- सानिया को इस पर करीब 20 लाख रुपए बतौर टैक्स चुकाने हैं।

- इस 20 लाख रुपए की रकम में 14.5% सर्विस टैक्स, फाइन और पेनाल्टी शामिल है।