इस मंदिर में माता को चढ़ाए जाते हैं चप्पल और सैंडिल

नई दिल्ली (8 अक्टूबर): नवरात्रों के आते ही देशभर में दुर्गा पंडाल सजने लगे हैं। हालांकि अलग-अलग मान्यताओं के हिसाब से लोग यहां पर पूजा करते हैं, लेकिन भक्ति सभी में एक जैसी ही होती है। इसी कड़ी में न्यूज 24 आपको आज एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहा है जहां पर मां दुर्गा को नई चप्पल या सैंडिल चढ़ाई जाती है।

वैसे तो हमारे यहां पर भगवानों के कक्ष या पंडालों में चप्पल-जूते पहनकर फटकने नहीं देते, लेकिन एक मंदिर ऐसा है जहां मां दुर्गा को नई चप्पल या सैंडिल चढ़ाई जाती है। सुनकर आपको आश्चर्य होगा लेकिन यह सच है। यह मंदिर है मप्र की राजधानी भोपाल में। पहाड़ी पर बने इस मंदिर में श्रद्धालु अपनी मन्नतें पूरी होने के बाद चप्पलें चढ़ाते हैं।

नाम है जीजी बाई का मंदिर... राजधानी भोपाल के कोलार इलाके में एक छोटी सी पहाड़ी पर बना मां दुर्गा का सिद्धदात्री पहाड़ावाला मंदिर है। जिसे लोग जीजीबाई मंदिर भी कहते हैं। दरअसल करीब 18 साल पहले यहां अशोकनगर से रहने आए ओम प्रकाश महाराज ने मूर्ति स्थापना के साथ शिव-पार्वती विवाह कराया था और खुद कन्यादान किया था। तब से वे मां सिद्धदात्री को अपनी बेटी मानकर पूजा करते हैं और आम लोगों की तरह बेटी के हर लाढ़-चाव पूरे करते हैं।

कभी-कभी दो तीन घंटे में बदलने पड़ते हैं कपड़े... ओम प्रकाश महाराज बताते हैं कि लोग यहां मन्नतें मांगते हैं और पूरी होने के बाद नई चप्पल चढ़ाते हैं। चप्पल के साथ-साथ गर्मी में चश्मा, टोपी और घड़ी भी चढ़ाई जाती है। एक बेटी की तरह दुर्गा जी की देखभाल होती है। कई बार हमें आभास होता है कि देवी उन्हें पहनाए गए कपड़ों से खुश नहीं हैं तो दो-तीन घंटों में ही कपड़े बदलने पड़ते हैं।

विदेशों से आती हैं चप्पल... ओम प्रकाश महाराज बताते हैं कि जीजीबाई माता के लिए उनके भक्त विदेशों से भी चप्पल भेज चुके हैं। मंदिर में आने वाले कुछ लोग विदेश में बस गए हैं। कभी सिंगापुर तो कभी पैरिस से उनके लिए चप्पल आई है। एक दिन चप्पल चढाने के बाद उसे बांट दी जाती है।