यह है दुनिया का पहला 'रोबोट नेता', 2020 में लड़ सकता है चुनाव

नई दिल्ली ( 28 नवंबर ): पिछले कुछ समय से हम रोबोट को किसी न किसी काम में यूज करने की खबरें सुनते आ रहे हैं, लेकिन अब रोबोट से जुड़ी एक ऐसी खबर आ रही है जिसने कम समय में काफी सुर्खिया बटोर ली हैं। आपको बता दें कि न्यूजीलैंड के वैज्ञानिकों ने अब एक रोबोट को नेता बना दिया है। इसमें नेता वाली सारी खूबियां होंगी, जो दुनिया में इस तरह का पहला रोबोट होगा।

इस रोबोट नेता का 'सैम' है। यह स्थानीय मुद्दों- शिक्षा, आवास, आव्रजन जैसे मुद्दों पर बात कर सकता है। यदि भविष्य में मंजूरी मिली तो वह चुनाव भी लड़ सकता है।

'सैम' का निर्माण न्यूजीलैंड के 49 वर्षीय उद्यमी निक गेरिसन ने किया है। उनका कहना है कि ऐसा लगता है कि फिलहाल राजनीति में कई पूवाग्रह हैं और ऐसा प्रतीत होता है कि दुनिया के देश जलवायु परिवर्तन और समानता जैसे जटिल मुद्दों का हल नहीं निकाल पा रहे हैं।

फिलहाल आर्टिफिशल इंटेलीजेंस (एआई) वाला यह राजनीतिज्ञ फेसबुक मैसेंजर के जरिए लगातार लोगों को प्रतिक्रिया देना सीख रहा है। इसके अलावा यह विभिन्न सर्वे पर भी तवज्जो दे रहा है।

एक मैगजीन का कहना है कि इस रोबोट का सिस्टम परफेक्ट नहीं है, लेकिन फिर भी यह विभिन्न देशों में बढ़ती राजनीतिक व सांस्कृतिक खाई को पाटने में कारगर हो सकता है।

न्यूजीलैंड में साल 2020 के आखिर में आम चुनाव होंगे। गेरिसन का कहना है कि तब तक सैम एक प्रत्याशी के तौर पर मैदान में उतरने के लिए तैयार हो जाएगा। हालांकि कानूनी तौर पर यह संभव नहीं दिखता। दरअसल सैम एक मददगार की भूमिका में रहेगा, जो मौजूदा कानूनी सीमाओं में रहकर काम कर सकता है।