बढ़ सकती है सलमान की परेशानी, महिला आयोग के सामने नहीं हुए पेश

नई दिल्ली (30 जून): रेप पीड़ितों पर आपत्तिजनक बयान देकर विवादों में घिरे सलमान खान को कल महिला आयोग के सामने पेश होना था। लेकिन सलमान खान वो आयोग के आदेश नहीं आए। सलमान न खुद गए न वकील को भेजा। बस एक चिट्ठी भेज दी। जिसकी वजह से अब फिर वो सवालों में घिर गए हैं।

पता नहीं ये कैसी कमिटमेंट है, किससे कमिटमेंट है और क्यों कमिटमेंट है कि सलमान किसी की सुन ही नहीं रहे। अपनी गलती मानने को तैयार ही नहीं हैं। रेप पीड़िता पर दिए अपमानजनक बयान पर सफाई देने के लिए महाराष्ट्र महिला आयोग ने सलमान खान को तलब किया था। सलमान को दोपहर 2 बजे महिला आयोग के दफ्तर बांद्रा पहुंचना था। लेकिन सलमान की अकड़ देखिए। न खुद आए न उऩके वकील। एक चिट्ठी जरुर भेज दी। और चिट्ठी क्या है उनकी नीयत का चिट्ठा। रेप पीड़ितों की दशा का मज़ाक उड़ने की बेशर्मी पर माफी मांगना दूर, खेद तक नहीं जताया। हिंदुस्तान में इसे कहते हैं स्टार का रुतबा।

बेटे की निर्लज्जता पर पिता सलीम खान माफी मांगते फिरे और सलमान खुद को खुदा माने बैठे हैं। उन्होंने चिट्ठी में फरमाया है कि ये मामला राष्ट्रीय महिला आयोग में भी है। सो राज्य महिला आयोग बेवजह उनसे जवाबतलब कर रहा है। वो राष्ट्रीय महिला आयोग से निपट लेंगे। महाराष्ट्र महिला आयोग के पास सलमान की इस उदंडता का कोई जवाब नहीं। सो वो सलमान के सामने गिड़गिड़ा रहा है। प्लीज 7 जुलाई को आ जाइएगा। वकील साहब को भी साथ ले आइएगा। 

सिनेमा का स्टार होना हिंदुस्तान में कितनी बड़ी बात है ये सलमान के इस रवैये से समझिए। छिछोरेपन की हद तक गिर गए थे सलमान बलात्कार पीड़ितों का मज़ाक उड़ाते हुए। इसके बाद महिला आयोग सलमान के पीछे लग गया। पिता सलीम खान बेटे की बेशर्मी पर माफी मांगते रहे लेकिन सलमान का मुंह नहीं खुला है। सुना है आईफा में किसी ने पूछ लिया तो बोले आई विल कीप मम। यानि वो कुछ नहीं बोलेंगे। 

ये वही सलमान हैं जो पर्दे पर उतरते हैं तो लड़कियों की दिल की धड़कनें बढ़ जाती हैं। रटे रटाए डॉयलॉग से छा जाने वाले स्टार दरअसल अपनी निजी जिंदगी में इतने खोखले होते हैं कि मज़े-मज़े में महिलाओं के सम्मन की धज्जी उड़ा देते हैं। औ स्टार अगर सलमान खान जैसा हुआ तो ऐसी बेशर्मी पर उनकी ऐँठन देखने लायक होती है। जो करना हो कर लो।