काला हिरण शिकार मामला: सलमान पर दर्ज हुए थे चार केस, जानिए क्या है पूरा मामला

नई दिल्ली ( 5 अप्रैल ): काले हिरण के शिकार के मामले में जोधपुर कोर्ट ने फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने सलमान खान को दोषी करार दिया है, वहीं मामले में अन्य आरोपियों को बरी कर दिया है। सलमान को कोर्ट ने 5 साल की सजा सुनाई है। सलमान पर 10 हजार का जु्र्माना भी लगाया गया है। 

-सितंबर,1998 में राजस्थान में 'हम साथ साथ हैं' की शूटिंग के दौरान हुआ था ये केस।

-सलमान समेत चार कलाकारों पर 26, 28 सितंबर और 1/2 अक्‍टूबर को शिकार करने का आरोप लगा।

-जोधपुर के मथानिया, भवाद और कांकनी गांव में चार काले चिंकारा हिरणों को मारने का आरोप लगा था।

पहला और दूसरा केस...

-26 सिंतबर 1998 भवाद शिकार प्रकरण में सलमान को एक साल की सजा सुनाई थी।

-28 सितंबर 1998 घोड़ा फार्म हाउस मथानिया शिकार में पांच साल की सजा सुनाई गई थी।

-सलमान ने इन दोनों मामलों में सजा के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील कर रखी थी।

-6 नवंबर 2015 से 13 मई 2016 तक इन दोनों मामले में हाई कोर्ट में सुनवाई चली।

-जुलाई 2016 में राजस्थान हाईकोर्ट ने सबूतों के अभाव में सलमान खान को बरी कर दिया था।

-हाईकोर्ट के फैसले को अब राज्य सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है।

 

तीसरा केस...

-सलमान खान पर 1/2 अक्टूबर 1998 की रात कांकाणी गांव दो काले हिरण के शिकार का आरोप लगा।

-उनके साथ ही सैफ अली खान, नीलम, तब्बू व सोनाली बेंद्रे पर उन्हें शिकार के लिए उकसाने का आरोप लगा।

-इस मामले में कुल 52 गवाह है और अभी तक यह मामला ट्रायल कोर्ट में ही लम्बित हैं।

 

चौथा केस: आर्म्स एक्ट

-32 और 22 बोर रायफल लाइसेंस समाप्ति के बाद भी रखने का आरोप लगा।

-सलमान पर आर्म्स एक्ट के तहत यह चौथा मामला दर्ज किया गया था।

-आर्म्स एक्ट मामले में 16 गवाहों के बयान दर्ज किए गए थे।

-9 जनवरी 2017 आर्म्स एक्ट मामले में दोनों पक्षों की जिरह पूरी हो गयी थी।

-18 जनवरी 2017 सलमान खान आर्म्स एक्ट के दोनों मामलों से बरी हुए।