रियो: इतिहास रचने वाली साक्षी ने किया देश को धन्यवाद

नई दिल्ली(18 अगस्त): लंबे इंतजार के बाद भारत की झोली में पहला पदक साक्षी मलिक ने डाला। उन्होंने 58 किलोग्राम वर्ग के क्वार्टर फायनल में किरगिस्तान की टिनीबेकोवा को हराकर ये मैडल भारत के नाम किया। रियो में साक्षी मलिक ने पदक जीतकर इतिहास रच दिया। साक्षी ओलिंपिक में कुश्ती में पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बन गईं।

-जीत के बाद साक्षी ने देश को धन्यवाद किया। और भी पदक जीतने के लिए की प्रार्थना।

- हमेशा से मेरा सपना था कि मैं तिरंगा लेकर दौड़ूं और जब मुझे यह मौका मिला तो वह मेरी जिंदगी का सबसे अच्छा पल था

- कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक ने अपना पदक अपने माता-पिता, दोस्तों, कोच, फेडरेशन, ट्रेनिंग पार्टनर्स समेत उनका समर्थन करने वाले सभी लोगों को समर्पित किया

- साक्षी का कहना है, ' मैंने 2 सेकंड में खेल का रुख पलटते देखा है, मेरे पास तो 10 सेकंड थे।'

- कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक को राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने दी बधाई।

- फ्रीस्टाइल कुश्ती के 58 किलोग्राम वर्ग में साक्षी 0-5 से पीछे थीं, लेकिन आखिरी 10 सेकंड में साक्षी ने 8 पॉइंट्स हासिल कर जीता पदक।