शहीद मेजर का शव घर पहुंचते ही पत्नी की बातें सुन भावुक हुए लोग

Image source google

न्यूज 24 नई दिल्ली (19 फरवरी) ः जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सोमवार को आतंकियों के साथ मुठभेड़ में लोहा लेते हुए शहीद हुए चार जवान शहीद हो गए, जिनमें उत्तराखंड के रहने वाले मेजर विभूति कुमार ढौंडियाल भी शामिल थे। मंगलवार को जब मेजर ढौंडियाल का पार्थिव शरीर उनके घर देहरादून पहुंचा तो उनके अंतिम दर्शन के लिए लोगों का जनसैलाब उमड़ पड़ा। उनकी पत्नी निकिता समेत परिजनों और आस पास के लोगों ने नम आंखों से भावभीनी श्रद्धांजलि दी।


इस मौके पर शहीद की पत्नी मेजर के ताबूत के पास खड़ी रहीं और उनका चेहरा हाथों से चूमकर उन्हें आई लव यू कहा। पत्नी पार्थिव शरीर के पास खड़ीं थीं और उनके चेहरे के भाव को देखकर वहां जमें सभी लोगों की आंखें नम हो गई। निकिता अपने आंसुओं के सैलाब को अपनी आंखों में दफन करे खड़ीं रहीं, क्योंकि उनके पास ही विभूति की मां का रो-रोकर बुरा हाल था, ऐसे में निकिता उन्हें भी संभाल रहीं थीं। जब मेजर का अंतिम संस्कार किया गया था।


 उनके पार्थिव शरीर के सामने निकिता ने उनके लिए एक मैसेज दिया। पत्नी निकिता ने कहा कि आप जैसे बहादुर पति को पाकर पाकर मुझे गर्व महसूस हो रहा है। अपनी जिंदगी की आखिरी सांस तक मैं हमेशा आपको प्यार करती रहूंगी। बता दें कि बीते साल अप्रैल में ही निकिता कौल और मेजर विभूति ढौंडियाल की शादी हुई थी। सोमवार सुबह मेजर की पत्‍नी दिल्ली में मायके जा रही थीं, तभी ट्रेन में उन्‍हें मेजर विभूति के शहीद होने की खबर मिली। 55 राष्‍ट्रीय राइफल में तैनात मेजर उत्तराखंड के देहरादून के रहने वाले थे।


 एनकाउंटर के दौरान वो आतंकियों को घेरे हुए थे, तभी गोली लगने से मेजर ढौंडियाल शहीद हो गए थे। पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले के बाद सुरक्षाबलों ने पिंगलिना इलाके में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन चलाया था। इसमें जवानों ने तीन आतंकियों को ढेर कर दिया, जिनमें से दो आतंकी सीआरपीएफ काफिले पर हमले में शामिल थे। एनकाउंटर में मेजर विभूति कुमार के अलावा हरियाणा में रेवाड़ी के रहने वाले सिपाही हरि सिंह, राजस्थान के झुंझुनूं के सेव राम और मेरठ के अजय कुमार शहीद हो गए।