महिला के पेट से निकला ब्रेसलेट, चूड़ी, लोहे की कीलें समेत 1.5 किलो सामान, हैरान रह गए डॉक्टर

                                                       Photo: Google 

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 13 नवंबर ): अहमदाबाद के सिविल अस्पताल में महिला के पेट से ऑपरेशन करके एक इंच लंबी लोहे की कीलें, पेंच, सेफ्टी पिन, यू-पिन, हेयर पिन, ब्रेसलेट, चेन, मंगलसूत्र, कॉपर रिंग और चूड़ियां निकाली गईं है। पीड़िता का नाम संगीता (45) है जिन्हें पेट दर्द की शिकायत के बाद 31 अक्टूबर को अहमदाबाद के सरकारी अस्पताल (मानसिक स्वास्थ्य) से सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया था। सर्जरी के बाद डेढ़ किलो का सामान उनके पेट से निकाला गया है।

महाराष्ट्र के शिरडी निवासी संगीता मानसिक रूप से बीमार हैं जो अहमदाबाद के शाहरकोटडा इलाके में घूमते हुए मिली थीं जिसके बाद उन्हें कोर्ट के आदेश द्वारा मेंटल हेल्थ अस्पताल को सौंप दिया गया था। सिविल अस्पताल के जनरल सर्जरी विभाग में वरिष्ठ सर्जन डॉ. नितिन परमार ने बताया, 'महिला का पेट चट्टान की तरह कठोर हो गया था। एक्स-रे में उनके पेट में एक बड़ा लंप दिखाई दिया जबकि फेफड़ों में सेफ्टी पिन धंसी हुई दिखी। एक सेफ्टी पिन ने तो उनके पेट की दीवार को पंक्चर कर दिया था जिसके बाद हमने उनका तुरंत ऑपरेशन किया।'   

                                                      Photo: Google 

ढाई घंटे तक चले ऑपरेशन में पेट से एक के बाद एक चीजें निकालते हुए डॉक्टर हैरान रह गए। डॉक्टरों को महिला के पेट से मेटल के पैने सामान, जूलरी और दूसरे सामान जैसे रस्सी और रबरबैंड भी मिले। सभी का वजन करीब डेढ़ किलो रहा होगा। डॉ. परमार ने बताया, 'एकुफेगिया एक दुर्लभ डिसऑर्डर है, जिससे पीड़ित शख्स पैनी वस्तुओं को निगल लेता है। यह साधारणतया मानसिक रूप से अस्वस्थ व्यक्तियों में पाया जाता है। हमें इस तरह के केस साल में एक-आध ही मिलते हैं। महिला कई महीनों से इस तरह के सामान निगल रही थी।'

                                                       Photo: Google 

सरकारी अस्पताल (मानसिक स्वास्थ्य) में एक मनोवैज्ञानिक अर्पण नायक ने बताया, 'अस्पताल से बाहर आने के बाद भी संगीता लगातार डॉक्टरों की निगरानी में हैं। हमें शिरडी में उनके भाई भी मिले थे लेकिन परिवार ने उन्हें वापस लेने से इनकार कर दिया क्योंकि वह तीन बार घर से भाग चुकी हैं। हम फिर भी आशा करते हैं कि उन्हें दोबारा उनका परिवार मिल जाए।'