कासगंज हिंसा: साध्वी प्राची के काफिले को रोका गया, 9 गिरफ्तार

नई दिल्ली (27 जनवरी): गणतंत्र दिवस पर तिरंगा यात्रा के दौरान हुए बवाल के बाद कासगंज में तनावपूर्ण स्थिति है। जिसको देखते हुए पुलिस ने जिले की सीमाओं को सील कर दिया है। शनिवार को कासगंज जा रहीं विश्व हिंदू परिषद् की नेता साध्वी प्राची को पुलिस ने सिकंदराराऊ में रोक लिया। साध्वी प्राची के काफिले को रोकने पर समर्थकों और पुलिस में तीखी नोकझोंक हुई।लेकिन बताया जा रहा है कि खुद सीएम योगी आदित्यनाथ ने साध्वी प्राची को फोन करके 24 घंटे में कार्रवाई का आश्नासन दिया है जिसके बाद साध्वी प्राची वापस लौट गई। 

वहीं पुलिस ने हिंसा फैलाने के आरोप में 9 लोगों को गिरफ्तार किया है बाकी आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए  SIT का गठन कर दिया गया है। आपको बता दें कि कासगंज में आज भी तनाव का माहौल है और एक बार फिर हिंसा भड़क गई है। उपद्रवियों ने आज भी कासगंज में जमकर हंगामा किया है। 2 दुकानों में आग लगा दी गई। वहीं कुछ वाहनों में तोड़फोड़ भी की गई है। एक बस में भी आग लगाई गई है।

हालात को काबू में करने के लिए PAC की 5 और RAF की 1 कंपनी को कासगंज में तैनात किया गया है साथ ही ADG ज़ोन IG रेंज और DIG रेंज कासगंज में मौजूद हैं। आपको बता दें कि कल कासगंज में तिरंगा यात्रा निकाली जा रही थी। तिरंगा यात्रा के दौरान दो गुटों में विवाद हो गया था। जिसके बाद जमकर हंगामा हुआ। दोनों गुटों की तरफ से पत्थरबाज़ी की गई और फायरिंग भी हुई जिसमें चंदन वर्मा नाम के युवक की मौत हो गई। प्रशासन ने चंदन वर्मा की मौत के बाद 5 लाख रुपए के मुआवज़े की भी घोषणा की। वहीं आज चंदन के अंतिम संस्कार में एटा से बीजेपी सांसद समेत कई बड़े नेता शामिल हुए थे।