सचिन का पीएम मोदी को पत्र, इंटरनेशनल पदक विजेताओं को मिले मेडिकल सुविधाएं

नई दिल्ली ( 11 दिसंबर ): भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व बल्लेबाज और मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि देश के सभी ऐसे खिलाड़ी जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीते हैं उन्हें केंद्र सरकार स्वास्थ्य योजना (सीजीएचएस) में शामिल किया जाए।  उन्होंने अपने पत्र में ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य मो. शाहिद के अंतिम दिनों का उदाहरण दिया और जताया कि किस तरह से देश के लिए पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को तकलीफ सहनी पड़ती है। 

सचिन ने 24 अक्टूबर को प्रधानमंत्री को लिखे अपने पत्र में कहा कि मैं संबंधित खिलाड़ी के रूप में अपने देश के सभी खिलाड़ियों की तरफ से आपके आग्रह करता हूं कि आप देश के लिए पदक जीतने वाले सभी खिलाड़ियों को सीजीएचएस की सुविधा सूची में शामिल करवाने की पहल करें। सीजीएचएस सुविधाओं का फायदा केंद्र सरकार के कर्मचारियों को मिलता है जो इससे जुड़े मेडिकल केंद्रों पर उपचार करा सकते हैं।

तेंदुलकर ने प्रधानमंत्री मोदी को बताया है कि वे इस मुद्दे को इससे पहले खेल मंत्रालय और स्वास्थ्य मंत्रालय दोनों के साथ उठा चुके हैं। तेंदुलकर ने लिखा, ‘उन्होंने (स्वास्थ्य मंत्रालय ने) इस विचार का समर्थन किया है लेकिन 14 सितंबर को अपने जवाब में सीजीएचएस योजना के तहत विस्तृत रूप से खिलाड़ियों पर विचार करने में अक्षमता जताई है। 

सचिन ने कहा कि, ‘सभी खिलाड़ियों को सरकारी नौकरी नहीं दी जाती, इसलिए अगर हम अंतरराष्ट्रीय पदक विजेताओं के सीमित पूल पर भी विचार करते हैं तो अपने महान हॉकी खिलाड़ियों में से एक मोहम्मद शाहिद के प्रति उदासीनता जैसी घटनाओं से बच सकते हैं।’ तेंदुलकर ने लिखा, ‘मैंने कई गंभीर चोटों का सामना किया जहां मेरे सामने अनिश्चित वापसी का दबाव था। खिलाड़ी को काफी शारीरिक और मानसिक तनाव से गुजरना पड़ता है।’ उन्होंने कहा, ‘चिकित्सकीय खर्चा खिलाड़ियों पर अतिरिक्त भार डालता है।