सचिन ने गोद लिया यह गांव, खत्म करेंगे सूखे की समस्या

नई दिल्ली (18 अगस्त): क्रिकेटर से राजनेता बने सांसद सचिन तेंदुलकर ने सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत उस्मानाबाद जिले के दोंजा गांव को गोद लिया है। इस योजना के तहत 2019 तक इस गांव का डेवलपमेंट किया जाएगा।

दोंजा गांव महाराष्ट्र के उस्मानाबाद डिस्ट्रिक्ट में आता है। सचिन ने इससे पहले आंध्र प्रदेश के पुट्टमराजु कंद्रिगा गांव को गोद लिया था। कहा जा रहा है कि वहां डेवलपमेंट तेजी से हुआ।

सूखे की चपेट में है दोंजा... - सचिन के फैसले से उस्मानाबाद डिस्ट्रिक्ट काउंसिल के सीईओ आनंद रायते ने खुशी जताई है। - उन्होंने कहा, "हमें खुशी है कि सचिन ने दोंजा गांव को गोद लेने के लिए चुना, हमें उम्मीद है कि इससे दूसरे गांव भी विकास के इस मॉडल को अपनाने के लिए एनकरेज होंगे।" - उस्मानाबाद जिला पिछले कई साल से सूखे की चपेट में है जिससे यहां किसानों के सुसाइड करने के मामले भी बढ़े हैं।

कैसा है दोंजा गांव? - उस्मानाबाद के परांडा तहसील में है दोंजा गांव। यहां 582 परिवार रहते हैं। - गांब की आबादी 2863 है जिनमें 1508 पुरुष और 1355 महिलाएं हैं। - गांव में 1 से 6 साल के बच्चों की तादाद 319 है। जो आबादी का 11.14 फीसदी है। - गांव में एवरेज सेक्स रेशियो 899 है जबकि पूरे महाराष्ट्र का 929 है। - 2011 के सेंसस के मुताबिक बच्चों की तादाद का रेशियो 910 है जो प्रदेश के 894 से ज्यादा है। - 2011 के मुताबिक दोंजा की लिट्रेसी रेट 72.17 थी जो पूरे महाराष्ट्र की 82.34 से कम है। इसमें पढ़े-लिखे पुरुष 78.75 जबकि महिलाएं 64.84 फीसदी हैं।