प्रद्युम्न की मौत की घटना से दिव्यांश के परिजनों के जख्म हुए हरे

नई दिल्ली (10 सितंबर): गुरुग्राम के रायन इंटरनेशनल स्कूल में 7 साल के मासूम प्रद्युम्न की हत्या से पूरा देश सन्न है। लोग स्कूलों में अपने बच्चों की सुरक्षा को लेकर असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। इस सबके बीच प्रद्युम्न की हत्या की गुत्थी अबतक नहीं सुलझी है, हालांकि स्कूल के एक बस कंडक्टर ने गुनाह कबूलते हुए खुद को प्रद्युम्न का हत्या बताया है। लेकिन इस पूरे प्रकरण में कुछ ऐसे सवाल अब भी बचे हैं जो अनसुलझे हैं।

पिछले साल दिल्ली के वसंतकुंज के रेयाल इंटरनेशनल स्कूल के वाटर टैंक में 6 साल के दिव्यांश का शव मिल था। स्कूल में प्रद्युम्न की मौत की घटना के बाद दिव्यांश के माता-पिता के जख्म एकबार फिर हरे हो गए हैं। दिव्यांश के पिता रामहित मीणा का कहना है कि सरकार रयान स्कूल को बंद कर दे या फिर अपने हाथों में ले। हालांकि इनका कहना है कि राजनीतिक रसूख के कारण इनका कोई कुछ नहीं बिगड़ सकता। दिव्यांस की मां ममता मीना कहना है दिव्यांश की तरह ही प्रद्युम्न की भी हत्या हुई है और उन्हें अबतक न्याय नहीं मिला है।