हिलेरी के कैम्पेन के कम्प्यूटर हैक, रूसी जासूसों पर शक

नई दिल्ली (30 जुलाई): हिलेरी क्लिंटन की राष्ट्रपति पद के लिए कैम्पेन में इस्तेमाल हुए कम्प्यूटर्स को एक साइबर अटैक के जरिए हैक कर लिया गया है। ऐसी जानकारी सामने आई है कि इन्हें रूस की खुफिया सेवाओं की तरफ से अंजाम दिया गया है। एक फेडरल लॉ इन्फोर्समेंट अधिकारी ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी।

- 'टाइम्स ऑफ इंडिया' की रिपोर्ट के मुताबिक, यह प्रत्यक्ष साइबर अटैक पिछले महीने हुए खुलासे के बाद सामने आया है। जिसमें बताया गया था कि डेमोक्रेटिक नेशनल कमिटी के कम्प्यूटर सिस्टम्स के साथ छेड़छाड़ की गई।  - इसके बाद अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर यह बात चलने लगी। क्लिंटन की कैम्पेन के अधिकारियों ने कहा कि हो सकता है कि रूस चुनावी परिणामों को प्रभावित करना चाहता हो। - क्लिंटन की कैम्पेन की तरफ से एक बयान में कहा गया कि साइबर घुसपैठियों ने एक एनालिटिक्स प्रोग्राम को एक्सेस कर लिया, जिसे कैम्पेन में इस्तेमाल किया गया। इसे नेशनल कमिटी मेंटेन कर रही थी।  - हालांकि, कमिटी का मानना है कि कैम्पेन के अपने इंटरनल कम्प्यूटर सिस्टम्स से छेड़छाड़ नहीं की गई। - डेमोक्रेटिक कांग्रेशनल कैम्पेन कमिटी ने भी शुक्रवार को कहा कि इसके सिस्टम्स को हैक कर लिया गया है। यह हाउस डेमोक्रेट्स के लिए एक फंड जुटाने वाली शाखा है।  - गौरतलब है, नेशनल कमिटी और हाउस ऑर्गेनाइजेशन के डेटाबेस में पार्टी के सबसे ज्यादा संवेदनशील कम्यूनिकेशन्स, वोटर और फाइनैंशियल डेटा मौजूद है।