अमेरिका और रूस के बीच भिड़ंत की नौबत

वॉशिंगटन (8 सितंबर): रूस और अमेरिका के बीच एक बार फिर तनातनी की खबर है। जानकारी के अनुसार, रूस और अमेरिका के फाइटर प्लेन आमने-सामने आ गए थे। ब्लैक सी के ऊपर अमेरिका के जासूसी प्लेन को रोकने के लिए रशियन प्लेन उसके 10 फीट पास तक आ गया। 19 मिनट तक दोनों करीब रहे।

रूस के इस रवैए को अमेरिका ने 'अनसेफ और अनप्रोफेशनल' करार दिया है। पेंटागन का कहना है कि रूस की वजह से बड़ा हादसा हो सकता था। वहीं, रूस का कहना है कि अमेरिकी प्लेन ने उनके बॉर्डर के पास दो बार उड़ान भरी थी। इस इंटरसेप्ट उड़ान के दौरान इंटरनेशनल रूल्स का ख्याल रखा गया।

ये है मामला... - बुधवार को ये वाकया रशियन बॉर्डर के नजदीक ब्लैक सी के ऊपर हुआ। - अमेरिका के डिफेंस ऑफिशियल ने न्यूज एजेंसी को बताया कि रूस के फाइटर प्लेन ने गैर-जिम्मेदाराना काम किया है। - वहीं, रूस की डिफेंस मिनिस्ट्री का कहना है कि Su-27 प्लेन सिर्फ यह पता लगाने गया था कि US P-8 प्लेन उसकी सीमा के नजदीक क्या कर रहा है। - रूस का कहना है कि प्लेन ने ट्रांसपोंडर्स को ऑन नहीं किया था। इस वजह से प्लेन की एक्टिविटीज पर शक हुआ। उसने एक नहीं, दो बार बॉर्डर के पास आने की कोशिश की थी। - बता दें कि यह घटना ऐसे समय हुई है, जब गुरुवार को यूएस के विदेश मंत्री जॉन कैरी और रूस के विदेश मंत्री सेग्री लावरोव मिल रहे है। इस मीटिंग में सीरिया विवाद पर बातचीत हो सकती है।