रियो: बुरी तरह घायल होने के बाद भी रिंग में डटा रहा ये पहलवान

नई दिल्ली(21 अगस्त): रियो ओलिंपिक में 74 किलोग्राम भारवर्ग के मेन्स फ्रीस्टाइल रेसलिंग फाइनल में दिखा ऐसा नजारा जो खेल के मैदान पर बहुत कम देखने को मिलता है। रूसी पहलवान एनियर गेडुएव बुरी तरह से घायल थे। उनकी बायीं आंख के ऊपरी हिस्से पर चोट लगी हुई थी। 

- चोट के बावजूद वह ईरान के पहलवान याजदानिचराति के खिलाफ अखाड़े में उतरे। फाइनल मुकाबले के दौरान उनके चोट से खून टपक रहा था लेकिन रूस का यह पहलवान अपने देश के लिए गोल्ड जीतना चाहता था। 

- वह रिंग में बना रहा और यह मुकाबला 6-6 की बराबरी पर छूटा। पहले तो रूसी पहलवाल आगे चल रहे थे मगर मैच के आखिरी क्षणों में ईरानी पहलवान ने बाजी पलट दी और दोनों का स्कोर बराबर हो गया। बाद में मैच रेफरी ने ईरानी पहलवान को विजेता घोषित कर दिया।इस फाइनल मुकाबले के दौरान पहलवान की जर्सी पूरी तरह लाल हो गई। बार-बार खून टपकने की वजह से मैट को भी साफ करवाया जा रहा था।

- रूस का यह पहलवान सिर पर पट्टी बांधकर खेलता रहा। वह हार मानने और पीछे हटने के लिए तैयार नहीं था। वह अपने देश के लिए गोल्ड जीतना चाहता था और शायद यही वजह थी कि चोट के बावजूद उसने मैदान नहीं छोड़ा।इस मैच में ईरानी पहलवान ने गोल्ड जीता मगर रूसी पहलवान एनियर ने जो जज्बा दिखाया उसने सबका दिल जीत लिया। एनियर को सिल्वर मेडल मिला लेकिन उन्होंने हार न मानने की जो जिद दिखाई उसकी तारीफ सबने की।