अमेरिका को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए रूस बना रहा है 'महाजहाज'

मास्को (26 अप्रैल): अमेरिका और रूस के बीच हथियारों की होड़ नई बात नहीं है। इस होड़ में रूस अब अमेरिका के लड़ाकू विमानवाहक जहाजों के जवाब में एक ‘महाजहाज’ बनाने जा रहा है। उसकी योजना ‘दुनिया का सबसे बड़ा एयरक्राफ्ट केरियर’ बनाने की है। इस विमानवाहक जहाज का नाम श्तोर्म होगा। रूस की मीडिया की मानें तो यह विमान 90 लड़ाकू विमान ले जाने में सक्षम होगा और इसकी कीमत 11 खरब रुपये से भी ज्यादा होगी।


इस प्रॉजेक्ट का नाम 23E00E है। इसके तहत इस युद्धपोत को 2030 तक इस्तेमाल के लिए तैयार कर लिया जाएगा। हालांकि, इसके ‘दुनिया के सबसे बड़े विमानवाहक’ होने को लेकर विवाद है। इसकी विशेषताएं अमेरिका के निमित्स श्रेणी के जहाजों से मिलती-जुलती हैं। एक विशेषज्ञ ने रूसी मीडिया से कहा है कि उसके नियोजित जहाज का डिजाइन अमेरिका के विमान वाहक जहाज यूएसएस गेरल्ड आर फोर्ड पर आधारित होगा।


मॉडल के मुताबिक बात करें तो इस जहाज की छत का आकार तीन फुटबाल फील्ड्स के बराबर होगा। इसमें 4000 क्रू मेंबर काम कर सकेंगे। फिलहाल रूस अपने ऐडमिरल कुज्नेत्सोव एयरक्राफ्ट केरियर पर निर्भर है जो 1985 में लॉन्च किया गया था। हालांकि श्तोर्म के मुकाबले इसकी क्षमता काफी कम है। यह केवल 30 युद्ध विमान ले जा सकता है और भाप इंजन से चलता है, जबकि श्तोर्म परमाणु शक्ति से चलने वाला युद्धपोत होगा।