'मेक इन इंडिया' के तहत भारत के साथ मिलकर मिग 29 K फाइटर जेट बनाना चाहता है रूस

नई दिल्ली (17 सितंबर):  'मेक इन इंडिया' के तहत रूस भारत से साथ मिलकर मिग 29 K फाइटर जेट बनाना चाहता है। इस बात के संकेत खुद मिग कंपनी के सीईओ ने दी है। मिग कंपनी का कहना है कि 'ये सिर्फ तकनीक का ट्रांसफर भर नहीं है बल्कि भारत की जरूरतों को देखते हुए हम संयुक्त रूप से मिग 29 K जेट को भारतीय कंपनी के साथ मिलकर विकसित करना चाहते हैं।

मिग सीईओ इल्या तारासेनको का कहना है कि कंपनी जल्द ही संयुक्त रूप से मिग 29 K को विकसित करने के लिए एक प्रस्ताव मोदी सरकार के सामने पेश करेगी। इस प्रस्ताव के सभी पहलुओं पर कंपनी काम कर रही है। कंपनी ने कहा है साथ मिलकर काम करने से दोनों देशों के रिश्तों में और मजबूती आएगी।

तारासेनको ने कहा, हम लंबे समय तक कैसे मेक इन इंडिया के माध्यम से एक दूसरे की मदद कर सकते हैं इसके विभिन्न विकल्पों पर विचार कर रहे हैं। गौरतलब है कि इंडियन नेवी ने इसी साल जनवरी में 57 मल्टी रोल कॉम्बेट एयरक्राफ्ट (युद्ध के साथ ही दूसरे कामों में भी इस्तेमाल होने वाले विमान) की खरीद प्रक्रिया को शुरू किया था और इसके लिए निविदा जारी की थी।

अभी भारतीय नौसेना के पास ऐसे 6 विमान हैं जिसमें एफ18, मिग 29 के, एफ 35 बी, एफ 35 सी प्रमुख हैं। मिग कंपनी के सीईओ तारासेनको ने कहा, हम भारतीय सुरक्षाबलों के साथ 50 साल से ज्यादा समय से काम कर रहे हैं और अबतक हम उन्हें विमान के साथ ही उससे जुड़ी सेवा भी देते हैं।