भारत में रूस और भी न्यूक्लियर पावर प्लांट का करेगा विकास: भारतीय राजदूत

नई दिल्ली ( 21 मई ): प्रधानमंत्री मोदी की रूस यात्रा से पूर्व रूस में नियुक्त भारत के राजदूत का एक महत्त्वपूर्ण बयान आया है जिसमे उन्होंने कहा है की रूस की मदद से भारत में और भी न्यूक्लियर पावर प्लांट बनाए जाएंगे। रूस और भारत के बीच कुडनकुलम परमाणु ऊर्जा संयंत्र में सहयोग देने को लेकर एक महत्वपूर्ण समझौता हुआ है।इससे पहले दोनों देशों के बीच हुए समोझौते में कहा गया था कि रूस कु़डनकुलम में 6 प्लांट स्थापित करेगा लेकिन नए समझौतों के मुताबिक अब इसकी संख्या और भी ज़्यादा होगी।इस बारे में जानकारी देते हुए रूस में भारत के राजदूत पी सरन ने कहा, 'रूस पहले से ही कुडनकुलम परमाणु ऊर्जा संयंत्र के निर्माण में काफी मदद कर रहा है। रूस यहां 6 बिल्डिंग बनाने को प्रतिबद्ध है। हमने रूस के साथ एक नए समझौता किया है जिसके मुताबिक रूस वहां और ज़्यादा यूनिट बनाएगा।'आगे उन्होंने कहा, 'दोनों देशों के बीच परमाणु क्षेत्र में बढ़ रहे सहयोग के अलावा यह तीसरे देश के साथ बढाने की भी संभावना है। बंगलादेश में रूपपुर परमाणु ऊर्जा संयंत्र बन रहा है भारत को उम्मीद है कि वहां पर भी दोनों देशों के विशेषज्ञता देखने को मिलेगी।'गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रूस यात्रा पर रवाना हो चुके हैं। इस दौरान वो रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाक़ात करेंगे और दोनों नेता अंतरराष्ट्रीय मामलों पर अपने दूरगामी दृष्टिकोण साझा करेंगे।