Blog single photo

शिवसेना के मुखपत्र सामान में लिखा- राम मंदिर नहीं, फिलहाल पुलवामा का मुद्दा उठाएगा RSS

शिवसेना के मुखपत्र सामना में लिखा गया है कि संघ परिवार ने अब तुरंत राम मंदिर बनाने का फैसला छोड़कर पहले पुलवामा हमले पर ध्यान केंद्रित करने का मन बनाया है। संघ परिवार को ऐसा लगता है की कश्मीर की समस

न्यूज 24 ब्यूरो, अवनीश पांडेय, मुंबई (23 फरवरी): शिवसेना के मुखपत्र सामना में लिखा गया है कि संघ परिवार ने अब तुरंत राम मंदिर बनाने का फैसला छोड़कर पहले पुलवामा हमले पर ध्यान केंद्रित करने का मन बनाया है। संघ परिवार को ऐसा लगता है की कश्मीर की समस्या को खत्म करने के लिए देश में एक मजबूत और स्थिर सरकार की जरूरत है बिना इसके इस समस्या का हल संभव नहीं है। 

आरएसएस के सूत्रों के मुताबिक अब संघ का मुद्दा रहेगा- स्थिर सरकार बने, जिसकी कश्मीर के हालात से निपटने के लिए भारत को जरूरत है। संघ परिवार के कार्यकर्ता अब हर परिवार को स्थिर सरकार के लिए पीएम मोदी को वापस लाने की जरूरत के बारे में बताएंगे। कार्यकर्ताओं को पिछले पांच साल में मोदी सरकार की बड़ी उपलब्धियों वाली बुकलेट भी बांटी गई है। इसमें कांग्रेस की 50 सालों की सरकार के साथ तुलना भी की गई है।

बता दें की शिवसेना ने इससे पहले कहा था कि पाक के खिलाफ कड़ा एक्शन लेने की बजाए सरकार केवल इस बात के लिए अपनी पीठ थपथपा रही है कि अमेरिका और फ्रांस जैसे देश पुलवामा हमले पर उसके साथ खड़े हैं। अपने मुखपत्र सामना में उसने लिखा था कि पाक के खिलाफ सरकार को तत्काल कड़ा कदम उठाना चाहिए। सेना ने सवाल किया कि क्या एक्शन के लिए चुनाव का इंतजार है?

संपादकीय में लिखा है कि मोदी सरकार प. देशों पर ज्यादा निभर्र न रहे। ये देश पुलवामा हमले पर तो भारत के पक्ष में बयानबाजी कर सकते हैं, लेकिन कश्मीर मामले पर खुलकर कुछ नहीं कह सकते। लेख में कहा गया है कि भारत को अपने दम पर लड़ाई लड़नी होगी। वैसे ही जैसे श्रीलंका ने लिट्‌टे का और अमेरिका ने ओसामा बिन लादेन का पाकिस्तान में घुसकर खात्मा किया। सेना का कहना है कि लादेन को मार गिराने पर अमेरिका की सारे विश्व ने सराहना की। लिट्‌टे का खत्म करने के लिए श्रीलंका को हर जगह से वाहवाही मिली। भारत कुछ करेगा तो विश्व के तमाम देश उसका साथ देंगे।

Image:Google

Tags :

NEXT STORY
Top