जेहादियों से रोहिंग्या मुसलमानों का लिंक, भारत के लिए हो सकता है खतरा- संघ प्रमुख

 

नागपुर (30 सितंबर): राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने विजय दशमी के मौके पर अपने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए रोहिंग्या मुसलमानों का भी मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि आंतकी गतिविधियों की वजह से रोहिंग्या मुसलमान म्यांमार से भगाए गए। अब वो भारत के लिए खतरा बनते जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम मानवता के नाम पर अपनी मानवता नहीं खो सकते।

रोहिंग्या मुद्दे पर पूरे देश में चल रहे विवाद पर मोहन भागवत ने कहा कि अगर हमने इन लोगों को यहां रहने दिया तो वह न केवल हमारे रोज़गार को प्रभावित करेंगे बल्कि देश की सुरक्षा भी प्रभावित होगी। रोहिंग्या के भारत में आने पर सवाल खड़े करते हुए उन्होंने कहा कि वह यहां क्यों आए हैं ?

 जेहादी ताक़तों से उनके संबंध उजागर हो गए हैं। इसलिए उनके देश के शासन का रवैया भी उनके लिए कड़ा है। साथ ही उन्होंने कहा कि जब उनके बारे में सारी जानकारी ली जाती है तो पता चलता है कि उनकी अलगाववादी, हिंसक और अपराधिक गतिविधियों में भूमिका रही है।